Global Statistics

All countries
98,743,848
Confirmed
Updated on January 23, 2021 9:58 am
All countries
70,697,919
Recovered
Updated on January 23, 2021 9:58 am
All countries
2,116,336
Deaths
Updated on January 23, 2021 9:58 am

Global Statistics

All countries
98,743,848
Confirmed
Updated on January 23, 2021 9:58 am
All countries
70,697,919
Recovered
Updated on January 23, 2021 9:58 am
All countries
2,116,336
Deaths
Updated on January 23, 2021 9:58 am
Home Blog

Experts send Vitamin D and Covid-19 open letter to world’s governments

0
Covid 19 and Vitamin D

In an open letter being sent to world governments today (21st December), 120 health, science and medical experts from the UK, US, and Europe say there is clear scientific evidence that vitamin D reduces Covid-19 infections, hospitalisations, and deaths.

For More information click on this link

HTTPS://WWW.NUTRAINGREDIENTS.COM/ARTICLE/2020/12/21/EXPERTS-SEND-VITAMIN-D-AND-COVID-19-OPEN-LETTER-TO-WORLD-S-GOVERNMENTS

Herd Immunity : आखिर क्‍या होती है ‘हर्ड इम्युनिटी’ क्‍यों है जरूरी?

0
Herd immunity

कोरोना वायरस के दौर में कई नए शब्दों को जन्‍म दिया। आजकल ऐसा ही एक शब्‍द चर्चा में है हर्ड
इम्युनिटी। इस नए शब्‍द के बारे में 
हर कोई जानना चाहता है। आइए जानते हैं आखि‍र क्‍या है हर्ड इम्‍यूनि‍टी’?
हर्ड का अर्थ अंग्रेजी में झुंड होता है और हर्ड इम्युनिटी यानी सामुहिक रोग प्रति‍रोधक क्षमता। कोरोना वायरस में सबसे ज्‍यादा चर्चा फि‍लहाल ‘इम्युनिटी’ की है। यानी जब तक कोरोना वायरस की वैक्‍सीन नहीं आ जाती तब तक हमें अपनी इम्युनिटी को ही मजबूत रखना होगा।

फि‍लहाल कई देशों में इसी पर बहस और शोध हो रहे हैं कि लोगों की इम्युनिटी कैसे बढ़ाई जाए।

‘हर्ड इम्युनिटी’ होने का मतलब है कि एक बड़े हिस्से या आमतौर पर 70 से 90 फीसदी लोगों में किसी वायरस से लड़ने की ताकत को पैदा करना। ऐसे लोग बीमारी के लिए इम्‍यून हो जाते हैं। जैसे-जैसे इम्यून (रोगप्रति‍रोधक क्षमता) वाले लोगों की संख्या में इजाफा होता जाएगा। वैसे-वैसे वायरस का खतरा कम होता जाएगा। इस वजह से वायरस के संक्रमण की जो चेन बनी हुई है वो टूट जाएगी। यानी वो लोग भी बच सकते हैं जि‍नकी इम्युनिटी कमजोर है।

क्‍यों जरुरी है ‘हर्ड ‘इम्युनिटी’

दरअसल कि‍सी भी वायरस को रहने के लिए एक शरीर की जरुरत होती है, तभी वो जिंदा रह पाता है। डॉक्‍टर या वैज्ञानिक की भाषा में वायरस को एक नया होस्‍ट चाहिए। ऐसे में वायरस कमजोर इम्‍यूनिटी वाला शरीर ढूंढता है। जैसे ही उसे वो मि‍लता है उसे संक्रमित कर देता है। ऐसे में अगर ज्‍यादातर लोगों की इम्‍यूनिटी मजबूत होगी तो वायरस को शरीर नहीं मिलेगा और वो एक वक्‍त के बाद खुद ब खुद ही नष्‍ट हो जाएगा। क्‍योंकि वायरस की भी एक उम्र होती है, उसके बाद वो मर जाता है।कैसे काम करती है ‘हर्ड इम्युनिटी’
हर्ड इम्युनिटी वायरस को रोकने में दो तरह से काम करती है। 80 फीसदी लोग अगर अच्‍छे इम्यून सिस्‍टम वाले हैं तो 20 फीसदी लोगों तक यह वायरस नहीं पहुंच पाएगा। इसी तरह अगर किन्हीं कारणों से इन 20 प्रति‍शत लोगों को वायरस का संक्रमण हो जाता है तो वह बाकी 80 प्रति‍शत तक नहीं पहुंचेगा क्योंकि वे पहले से अच्‍छे इम्यून सिस्‍टम वाले हैं।

Vitamin K2: Everything You Need to Know

0

Most people have never heard of vitamin K2.

This vitamin is rare in the Western diet and hasn’t received much mainstream attention.

However, this powerful nutrient plays an essential role in many aspects of your health.

In fact, vitamin K2 may be the missing link between diet and several chronic diseases.

What Is Vitamin K?

Vitamin K was discovered in 1929 as an essential nutrient for blood coagulation (blood clotting).

The initial discovery was reported in a German scientific journal, where it was called “Koagulationsvitamin” — which is where the “K” comes from (1).

It was also discovered by the dentist Weston Price, who travelled the world in the early 20th century studying the relationship between diet and disease in different populations.

He found that the non-industrial diets were high in some unidentified nutrient, which seemed to provide protection against tooth decay and chronic disease.

He referred to this mystery nutrient as “activator X,” which is now believed to have been vitamin K2 (1).

There are two main forms of vitamin K:

  • Vitamin K1 (phylloquinone): Found in plant foods like leafy greens.
  • Vitamin K2 (menaquinone): Found in animal foods and fermented foods (2Trusted Source).

Vitamin K2 can be further divided into several different subtypes, the most important ones being MK-4 and MK-7.

SUMMARY

Vitamin K was initially discovered as a nutrient involved in blood clotting. There are two forms: K1 (found in plant foods) and K2 (found in animal and fermented foods).

How Do Vitamins K1 and K2 Work?

Vitamin K activates proteins that play a role in blood clotting, calcium metabolism and heart health.

One of its most important functions is to regulate calcium deposition. In other words, it promotes the calcification of bones and prevents the calcification of blood vessels and kidneys (3Trusted Source4Trusted Source).

Some scientists have suggested that the roles of vitamins K1 and K2 are quite different, and many feel that they should be classified as separate nutrients altogether.

This idea is supported by an animal study showing that vitamin K2 (MK-4) reduced blood vessel calcification whereas vitamin K1 did not (5Trusted Source).

Controlled studies in people also observe that vitamin K2 supplements generally improve bone and heart health, while vitamin K1 has no significant benefits (6Trusted Source).

However, more human studies are needed before the functional differences between vitamins K1 and K2 can be fully understood.

SUMMARY

Vitamin K plays an essential role in blood clotting, heart health and bone health.

May Help Prevent Heart Disease

Calcium build-up in the arteries around your heart is a huge risk factor for heart disease (7Trusted Source8Trusted Source9Trusted Source).

Therefore, anything that can reduce this calcium accumulation may help prevent heart disease.

Vitamin K is believed to help by preventing calcium from being deposited in your arteries (10Trusted Source).

In one study spanning 7–10 years, people with the highest intake of vitamin K2 were 52% less likely to develop artery calcification and had a 57% lower risk of dying from heart disease (11Trusted Source).

Another study in 16,057 women found that participants with the highest intake of vitamin K2 had a much lower risk of heart disease — for every 10 mcg of K2 they consumed per day, heart disease risk was reduced by 9% (12Trusted Source).

On the other hand, vitamin K1 had no influence in either of those studies.

However, keep in mind that the above studies are observational studies, which cannot prove cause and effect.

The few controlled studies that have been conducted used vitamin K1, which seems to be ineffective (13Trusted Source).

Long-term controlled trials on vitamin K2 and heart disease are needed.

Still, there is a highly plausible biological mechanism for its effectiveness and strong positive correlations with heart health in observational studies.

SUMMARY

A higher intake of vitamin K2 is strongly associated with a reduced risk of heart disease. Vitamin K1 appears to be less useful or ineffective.

May Help Improve Bone Health and Lower Your Risk of Osteoporosis

Osteoporosis — which translates to “porous bones” — is a common problem in Western countries.

It prevails especially among older women and strongly raises the risk of fractures.

As mentioned above, vitamin K2 plays a central role in the metabolism of calcium — the main mineral found in your bones and teeth.

Vitamin K2 activates the calcium-binding actions of two proteins — matrix GLA protein and osteocalcin, which help to build and maintain bones (14Trusted Source15Trusted Source).

Interestingly, there is also substantial evidence from controlled studies that K2 may provide major benefits for bone health.

A 3-year study in 244 postmenopausal women found that those taking vitamin K2 supplements had much slower decreases in age-related bone mineral density (16).

Long-term studies in Japanese women have observed similar benefits — though very high doses were used in these cases. Out of 13 studies, only one failed to show significant improvement.

Seven of these trials, which took fractures into consideration, found that vitamin K2 reduced spinal fractures by 60%, hip fractures by 77% and all non-spinal fractures by 81% (17Trusted Source).

In line with these findings, vitamin K supplements are officially recommended for preventing and treating osteoporosis in Japan (18Trusted Source).

However, some researchers are not convinced — two large review studies concluded that evidence to recommend vitamin K supplements for this purpose is insufficient (1920).

SUMMARY

Vitamin K2 plays an essential role in bone metabolism, and studies suggest that it can help prevent osteoporosis and fractures.

May Improve Dental Health

Researchers have speculated that vitamin K2 may affect dental health.

However, no human studies have tested this directly.

Based on animal studies and the role vitamin K2 plays in bone metabolism, it’s reasonable to assume that this nutrient impacts dental health as well.

One of the main regulating proteins in dental health is osteocalcin — the same protein that is critical to bone metabolism and is activated by vitamin K2 (21Trusted Source).

Osteocalcin triggers a mechanism that stimulates the growth of new dentin, which is the calcified tissue underneath the enamel of your teeth (22Trusted Source23Trusted Source).

Vitamins A and D are also believed to play an important role here, working synergistically with vitamin K2 (24Trusted Source).

SUMMARY

It’s believed that vitamin K2 may play a critical role in dental health, but human studies showing the benefits of supplements in this area are currently lacking.

Cancer is a common cause of death in Western countries.

Even though modern medicine has found many ways to treat it, new cancer cases are still on the rise.

Therefore, finding effective prevention strategies is of utmost importance.

Interestingly, several studies have been done on vitamin K2 and certain types of cancer.

Two clinical studies suggest that vitamin K2 reduces recurrence of liver cancer and increases survival times (25Trusted Source26Trusted Source).

Additionally, an observational study in 11,000 men found that a high vitamin K2 intake was linked to a 63% lower risk of advanced prostate cancer, whereas vitamin K1 had no effect (27Trusted Source).

However, more high-quality studies are needed before any strong claims can be made.

SUMMARY

Vitamin K2 has been found to improve survival in patients with liver cancer. Men who consume the highest amounts of K2 appear to have a lower risk of advanced prostate cancer.

How to Get the Vitamin K2 You Need

Several widely available foods are rich sources of vitamin K1, but vitamin K2 less common.

Your body can partly convert vitamin K1 to K2. This is useful, as the amount of vitamin K1 in a typical diet is ten times that of vitamin K2.

However, current evidence indicates that the conversion process is inefficient. As a result, you may benefit much more from eating vitamin K2 directly.

Vitamin K2 is also produced by gut bacteria in your large intestine. Some evidence suggests that broad-spectrum antibiotics contribute to K2 deficiency (28Trusted Source29Trusted Source).

Still, the average intake of this important nutrient is incredibly low in the modern diet.

Vitamin K2 is mainly found in certain animal and fermented foods, which most people don’t eat much of.

Rich animal sources include high-fat dairy products from grass-fed cows, egg yolks, as well as liver and other organ meats (30Trusted Source).

Vitamin K is fat-soluble, which means low-fat and lean animal products don’t contain much of it.

Animal foods contain the MK-4 subtype, while fermented foods like sauerkraut, natto and miso pack more of the longer subtypes, MK-5 to MK-14 (31Trusted Source).

If these foods are inaccessible to you, taking supplements is a valid alternative. An excellent selection of K2 supplements can be found on Amazon.

The benefits of supplementing with K2 may be enhanced even further when combined with a vitamin D supplement, as these two vitamins have synergistic effects (32Trusted Source

In fact, it may have life-saving implications for many people.

SUMMARY

You can get vitamin K2 from high-fat dairy products, egg yolk, liver and fermented foods, such as sauerkraut.

The Bottom Line

Vitamin K is a group of nutrients that are divided into vitamins K1 and K2.

Vitamin K1 is involved in blood coagulation and vitamin K2 benefits bone and heart health. However, more studies on the roles of vitamin K subtypes are needed.

Some scientists are convinced that vitamin K2 supplements should be regularly used by people at risk of heart disease. Others point out that more studies are needed before any solid recommendations can be made.

However, it’s clear that vitamin K plays an essential role in body function.

To maintain good health, make sure to get adequate amounts of vitamins K1 and K2 through your diet.

Generic Medicines Vs. Branded Medicines: A Conflict

0
Generic Medicine

Pharmaceutical industry plays an important role in the healthcare system of any country. India’s pharmaceutical industry is the third largest in the world with an estimated value of $41 billion. Pharma companies manufacture generic medicines as well as branded medicines. We know and have consumed branded medicines, most of us do not even know what generic medicines are and how these medicines differ from branded medicines. Consumers in the United States are mostly prescribed generic medicines.

According to a report, 90% of the medicines prescribed by doctors in the US are generic.

A surprising fact is that more than one third of these drugs are likely manufactured in India. Country’s ability to produce affordable generic drugs has led to its market reputation of being the “pharmacy of the world” as they say.

Generic medicines are upto 90% cheaper than the branded or patented medicines. But, is price the only factor of difference between generic and the latter variant of medicines. Do they really differ? Generic medicines are cheaper because the pharmaceutical companies who are into manufacturing it does not spend heavy expenses on its research and development unlike branded medicine companies.

Generic medicines do not differ from the branded medicines except in their prices. Generic drugs are as good as branded as far as the quality and efficacy is concerned. The reason why our doctors do not prescribe and chemists do not consider to dispense generic medicines is that they are lower in price, so the revenue earned by everyone in the supply chain is low. But this model is not building our healthcare system better, moreover it is preying upon people’s savings.

Indian pharmaceutical sector which is currently valued at US $41 billion is expected to grow to a $65 billion industry by 2024. We can’t boast about such developments unless the poorest of the poor in our country is able to afford medicines.

Surprisingly the Indian pharmaceuticals market is dominated hugely by generic drugs which constitute nearly 70 per cent of the market, whereas over the counter (OTC) medicines and patented drugs make up to 21 per cent and 9 per cent, respectively. The fact that we are exporting most of our generic medicines to other countries but promoting branded drugs in our own country is unfathomable.

Generic medicines are easily available online as well as over the counter.

Generic medicines are upto 90% cheaper than the market price of branded medicines.

We don’t see the 70% of generic medicines most often, but most of the branded medicines are promoted in the market by our doctors and every involved in the supply chain. The medicines that doctors prescribe to people suffering from various mild as well as chronic ailments are all branded. There are real life stories where people suffering from various diseases are left in trauma and a feeling that they were being exploited after they exhaust their money in expensive branded medicines.

Keeping in mind our current economic and healthcare scenario, this is the high time to ponder upon the betterment of our healthcare system. Switching to generic medicines can bring a revolution in our country’s medicine market. The bottom line is, all the stakeholders of our health industry if work together, can bring transformation in our healthcare system.Generic Medicine

आपका भोजन ही आपकी दवा है।

0

 

बीमारी से बचने के लिए -“हमारा भोजन हमारी दवा”

व्यक्ति का शरीर जब भी किसी बीमारी से ग्रस्त होता है तो उसे चिकित्सा की विभिन्न पद्धतियों जैसे एलोपैथ होम्योपैथ यूनानी आयुर्वेद योग और प्राकृतिक चिकित्सा द्वारा उसकी बीमारी को ठीक करने का प्रयास किया जाता है किसी भी बीमारी को ठीक करने के लिए बीमारी के लक्षणों का उपचार क्या यह सही उपचार है -नहीं. क्योंकि यदि व्यक्ति के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बड़ी हुई हो तो उस व्यक्ति के शरीर में कोई भी बीमारी पनपने नहीं पाएगी यह उस शरीर को बीमार होने से बचा सकते हैं

आज के इस प्रदूषण युक्त वातावरण मैं व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता को कैसे बढ़ाया जाएं- जब ईश्वर ने इस पृथ्वी पर मनुष्य को उत्पन्न किया था तब मनुष्य के अनुकूल उसे सभी श्रेष्ठ प्रकार के वातावरण तथा मनुष्य की जरूरत की श्रेष्ठ वनस्पति और औषधियां भोजन के रूप में प्रदान की थी. मनुष्य के अनुकूल वातावरण को जैसे-जैसे हमने विकास का रास्ता तय किया वैसे वैसे वातावरण में प्रदूषण की मात्रा बढ़ती चली गई मनुष्य को स्वस्थ रुप से जीने के लिए उसेआवश्यक है वैज्ञानिकों के अनुसार हमारे शरीर में 90% बीमारियों का कारण शरीर में जमा प्रदूषण है जहां मनुष्य को शुद्ध जल ,शुद्ध वायु ,शुद्ध पौष्टिक भोजन ,मानसिक संतुलन, शारीरिक व्यायाम, समय पर सोना और जागना नियमित रूप से होता है तो व्यक्ति में रोग प्रतिरोधक क्षमता परिपूर्ण होती है आज की प्रचलित चिकित्सा पद्धतियों खासतौर से एलोपैथ चिकित्सा पद्धति इस रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सक्षम नहीं है बल्कि यह पद्धति व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता को कमजोर कर देती है यदि हम शरीर के अंदर आंतरिक विषाक्तता को समाप्त कर लें और शरीर के अंदर होने वाले असंतुलन जिसमें छारीय और अम्ल का संतुलन, वात और पित्त और cough का असंतुलन, हार्मोन का असंतुलन ,शरीर में ग्लूकोस के स्तर का संतुलन ,भोजन के द्वारा संतुलित करके हम जीवन भर निरोगी और स्वस्थ जीवन जी सकते हैं यह सारे कारण शरीर में कोशिकी स्तर पर करना होगा आज वैज्ञानिक ,डॉ ,सभी मानते हैं कि जिस परिवेश में हम जी रहे हैं उसमें व्यक्ति को कब कैसे कौन सी बीमारी लग जाएगी उसे नहीं मालूम लेकिन अगर बीमारियों से बचना है तो उस व्यक्ति के शरीर के अंदर रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाना होगा और यह कार्य केवल भोजन द्वारा ही संभव हो सकता है चिकित्सा क्षेत्र की अन्य विधाओं के चिकित्सकों और समाज के प्रतिष्ठित डाइट न्यूट्रिशन को भोजन कि इस महत्वपूर्ण चर्चा को समाज के साथ बांटा जाना चाहिए जिससे सभी भोजन की विधा से परिचित होकर अपने को और समाज को बीमारियों से बचा सकते हैं

लेखक
डॉ बृजेश सिंह चंदेल – B.N.Y.S

(CERTIFIED DIABETIC EDUCATOR) 

 

क्षारीय रहिये – स्वस्थ रहिये – ALKALINE BODY IS A HEALTHY BODY

0

आखिर क्या है एल्कलाइन डाइट 

1931 में नोबेल प्राइज विजेता डॉ ओट्टो वार्बर्ग ने बताया था कि कोई भी बीमारी यहाँ तक की कैंसर भी एल्कलाइन वातावरण में जीवित नही रह सकता है इस प्रकार एल्कलाइन डाइट से कई बीमारियों यहाँ तक की कैंसर से भी बचा जा सकता है.

शरीर का प्राकृतिक स्वाभाव एल्कलाइन है, हमने अपनी लाइफ स्टाइल से इसके स्वाभाव को बदल दिया जिस कारण से हमारे शरीर के सभी अंग हमारी त्वचा सहित शरीर का हर हिस्सा समय से पहले ही ख़त्म हो रहा है. जिसका प्रत्यक्ष प्रमाण आज छोटी छोटी आयु में हार्ट अटैक, ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, अत्यधिक वजन, किडनी फेलियर, स्ट्रोक, कैंसर इत्यादि भयंकर रोग से ग्रसित हमारे युवा और 40 वर्ष की आयु के अधेड़ जो कभी 60 साल से पहले अपने को बूढा महसूस नहीं करते थे वो आज 60 साल से पहले ही वो दुनिया को अलविदा कह कर चले जाते हैं. इसका मूल कारण ही अगर हम सही कर दें तो हम सहज ही कई बिमारियों से बच कर एक स्वस्थ जीवन व्यतीत कर सकते हैं. तो आइये आज आपको बताते हैं एल्कलाइन डाइट चार्ट क्या है और क्या है इसके फायदे. तो आइये जाने

What Is PH level

शरीर में क्षारीय और अम्लीय तत्वों की केमिस्ट्री का संतुलन बनाये रखने के लिए PH की महत्वपूर्ण भूमिका होती है. 7 से कम PH अम्लीय और 7 से ज्यादा PH क्षारीय कहलाता है. सामान्यत: मानव रक्त की PH 7.35 से  7.45 के बीच में होती है.असामान्य PH शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर बुरा प्रभाव डालती है.जो कई रोगों को जन्म देती है .ऐसी अवधारणा है की क्षारीय भोजन रक्त के PH को प्रभावित कर कैंसर सहित तमाम रोगों से बचाव एव इलाज में सहायक होते है.

क्षारीय भोजन – (Alkaline Diet) 

  • हरी पत्तेदार सब्जिया – पालक, अजवायन, कैल, सलाद पता ,जड़ वाली साग-भाजी जैसे गाजर, चकुंदर, शकरकंद एव अन्य सब्जिया जैसे बंद गोभी, ब्रोकोली, कद्दू, शिमला मिर्च, बीन्स, खीरा, प्याज, लहसुन, अदरक, मशरूम.
  • सिट्रस फल – नीम्बू, संतरा, मौसमी और अन्य मौसमी फल जैसे सेब,नाशपाती,तरबूज,अनानास, कीवी,खुबानी
  • नट्स -बादाम, खजूर, किशमिस,अंजीर
  • रिवर्स ओसमोसिस फ़िल्टर सिस्टम से प्राप्त जल अम्लीय होता है, और बोतलबंद पानी से भी परहेज करना चाहिए, नल के पानी को उबालकर ठंडा कर लें और इसको घड़े में डालकर पीना चाहिए. घड़े का पानी एल्कलाइन का बेहतर स्त्रोत है.
  • पानी में नीम्बू अथवा बेकिंग सोडा मिलाने से भी क्षारीय प्रभाव बढ़ता है.
  • हर्बल चाय, ग्रीन tea, समुंदरी नमक.

इन बातों का ध्यान रखे – 

  • आहार में क्षारीय भोजन (फल और सब्जिया) 80% और अम्लीय भोजन (अनाज और प्रोटीन ) 20 % होना आदर्श माना जाता है .
  • प्रातः काल क्षारीय पेय सेब का सिरका डालकर ले
  • भोजन अच्छी तरह चबाकर खाए
  • पकाने पर क्षारीय खनिज नष्ट हो जाते है इसलिए बिना पकाए ही अथवा भाप द्वारा कम पकाई सब्जिया ही उपयोग में ले
  • पानी खूब पिए

इन एसिडिक भोजन से बचे – 

  • डिब्बाबंद, कोर्न्फ्लाकेस.ओट्स, साबुत अनाज के उत्पाद, refind सुगर,चॉकलेट, काफी,चाय, अल्कोहल,पास्ता, ब्रेड, चावल, कोक
  • मीट,अंडा, दूध और डेयरी उत्पाद
  • दाले, मूंगफली, पिस्ता, काजू
  • सिंथेटिक मिठासयुक्त उत्पाद
  • दवाईयों का अधिक प्रयोग जैसे एस्प्रिन और एंटीबायोटिक

एल्कलाइन डाइट के फायदे – Benefit of Alkaline diet 

  • एल्कलाइन हड्डियों के विकास के लिए ज़रूरी होता है.
  • Muscular body बनाने के लिए एल्कलाइन डाइट की बहुत ज़रूरत होती है.
  • एल्कलाइन डाइट एंटी एजिंग में बहुत लाभदायी है.
  • आर्थराइटिस और जोड़ों सम्बंधित सभी समस्याओं में एल्कलाइन डाइट बहुत उपयोगी है.
  • हाई ब्लड प्रेशर, हार्ट अटैक और स्ट्रोक से बचाती है एल्कलाइन डाइट.
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है एल्कलाइन डाइट.
  • कैंसर से लड़ने में बहुत सहायक है.
  • किडनी के रोगों से लड़ने में एल्कलाइन डाइट चार्ट बहुत ही लाभदायक है.
  • किसी भी प्रकार के इन्फेक्शन को पनपने से रोकती है.
  • बॉडी वेट को मेन्टेन रखने में बहुत सहायक है एल्कलाइन डाइट.
  • विटामिन का अवशोषण आसानी से होता है और पोटैशियम की कमी को दूर करती है एल्कलाइन डाइट.
  • पूरे पाचन तंत्र को सही करने में ये बेहद सहायक है.

डिस्क्लेमर : इस पोस्ट में दी गयी सामग्री का उद्देश्य आपको मात्र जानकारी देना है। कृपया इसका प्रयोग किसी भी प्रकार के उपचार के लिए ना करें एवं अपने चिकित्सक से उचित परामर्श अवश्य लें।

Know About Blood Group

0

TYPES OF BLOOD GROUP

What are blood types?

Every drop of blood contains red blood cells, which carry oxygen throughout your body. It also contains white blood cells, which help fight infection, and platelets, which help your blood clot.

But that’s not where it ends. Your blood also contains antigens, which are proteins and sugars that sit on red blood cells and give blood its type. While there are at least 33 blood typing systems, only two are widely used. These are the ABO and the Rh-positive/Rh-negative blood group systems. Together, these two groups form the eight basic blood types that most people are familiar with:

  • A-positive
  • A-negative
  • B-positive
  • B-negative
  • AB-positive
  • AB-negative
  • O-positive
  • O-negative

Keep reading to learn more about blood types and why it’s hard to say which type is the rarest in the world.

What determines blood type?

Blood types are determined by genetics. You inherit genes from your parents — one from your mother and one from your father — to create a pair.

ABO system

When it comes to blood type, you might inherit an A antigen from one parent and a B antigen from the other, resulting in the AB blood type. You could also get B antigens from both parents, giving you a BB, or a B, blood type.

Type O, on the other hand, doesn’t contain any antigens and has no effect on A and B blood types. This means that if you inherit an O from your mother and an A from your father, for example, your blood type would be A. It’s also possible that two people with type A or type B blood could have a baby with type O blood if they carry the O antigen. For example, parents with AO blood could each pass the O antigen on to their child, creating OO (or simply O) blood. There are six of these combinations (AA, AB, BB, AO, BO, OO), which are called genotypes. The four blood types (A, B, AB, and O) stem from these genotypes.

Rh factor

Blood is also typed according to something called the Rh factor. This is another antigen found on red blood cells. If the cells have the antigen, they’re considered Rh-positive. If they don’t have it, they’re considered Rh-negative. Depending on whether the Rh antigen is present, each blood type is assigned a positive or negative symbol.

Why blood type matters

Your immune system naturally contains protective substances called antibodies. These help to fight off any material that your immune system doesn’t recognize. Usually, they attack viruses and bacteria.

However, antibodies can also attack antigens that aren’t present in your natural blood type. For example, if you have type B blood that’s mixed with type A blood during a transfusion, your antibodies will work to destroy the A antigens. This can have life-threatening results, which is why medical centers around the world have strict procedures in place to keep this from happening.

Keep in mind that blood types don’t always need to be an exact match to be compatible. For example, AB blood has both the A and B antigen, so a person with this type of blood can receive either type A or type B blood. Everyone can receive type O blood because it doesn’t contain any antigens. This is why people with type O blood are considered “universal donors.” However, people with type O blood can only receive type O blood.

When it comes to the Rh factor, people with Rh-positive blood can receive either Rh-positive or Rh-negative blood, while people with Rh-negative blood can only receive Rh-negative blood. In some cases, a woman with Rh-negative blood can carry a child with Rh-positive blood, resulting in a dangerous condition called Rh incompatibility.

वृद्धि हॉर्मोन – HUMAN GROWTH HORMONE

0
HUMAN GROWTH HORMONE
HUMAN GROWTH HORMONE

 

ह्यूमन ग्रोथ हार्मोन हमारे शारीरिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ये हार्मोन कोशिकाओं के निर्माण और पुनर्निर्माण को बहाल रखता है और आपको युवा बनाए रखता है। वसा इस हार्मोन के निर्माण पर नकारात्मक असर डालती है। ग्रोथ हार्मोन यानी एचजीएच कोशिका प्रजनन और पुनर्निर्माण को बढ़ाता है। कम उम्र में ग्रोथ हार्मोन का निर्माण बहुत बड़ी मात्रा में होता है और यही ग्रोथ हार्मोन हमें युवा बनाए रखने में अहम भूमिका निभाता है, लेकिन जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, हमारा शरीर ग्रोथ हार्मोन बनाना कम कर देता है। इतना ही नहीं 30 की आयु के बाद हमारे शरीर की ग्रोथ हार्मोन बनाने की क्षमता हर दशक यानी हर 10 सालों में 25 फीसदी तक घट जाती है।

क्या होता है एचजीएच 
हमारे शरीर में पाया जाने वाला जरूरी हार्मोन है ह्यूमन ग्रोथ हार्मोन, जो शरीर में मांसपेशियों और कोशिकाओं के विकास में मदद करता है। एचजीएच का उत्पादन पिट्यूटरी ग्लैंड में होता है। इस हार्मोन के बिना शरीर में मांसपेशियों का गठन और हड्डियों का घनत्व (बोन डेंसिटी) बढ़ना नामुमकिन है।

कद बढ़ाने में मददगार
किसी भी व्यक्ति के कद को बढ़ाने में जिस तत्व का सबसे बढ़ा योगदान होता है, वह है ह्यूमन ग्रोथ हार्मोन। पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम लेना भी हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी है। कैल्शियम से ना सिर्फ हमारी हड्डियां मजबूत होती हैं, बल्कि इसके साथ- साथ कद भी बढ़ता है। योग से भी अपने कद को प्राकृतिक रूप से बढ़ा सकते हैं। योग आपको तनाव मुक्त करने के साथ-साथ शारीरिक विकास को भी नया रंग देता है।

चीनी करें कम 
डायबिटीज से ग्रस्त लोगों के मुकाबले बिना डायबिटीज वाले लोगों में ग्रोथ हार्मोन का स्तर 3 से 4 गुना ज्यादा होता है। इंसुलिन को सीधे तौर पर प्रभावित करने के साथ ही ज्यादा चीनी लेने से वजन और मोटापा भी तेजी से बढ़ता है और इसका प्रभाव ग्रोथ हार्मोन के स्तर पर पड़ता है। कभी-कभार चीनी लेने से आपके ग्रोथ हार्मोन के स्तर पर कोई प्रभाव नहीं होता। पर, ज्यादा से ज्यादा स्वस्थ और संतुलित आहार लेने का प्रयास करना चाहिए। जो भी आहार लेते हैं, उसका अधिकतर प्रभाव आपके स्वास्थ्य, हार्मोन और शरीर की बनावट पर पड़ता है।

सोने से पहले ज्यादा खाएं
अधिक कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन वाला आहार इंसुलिन को बढ़ा देता है और रात के समय बनने वाले ग्रोथ हार्मोन को रोक देता है। खाने के दो से तीन घंटे बाद इंसुलिन का स्तर कम हो जाता है, फिर भी रात में अधिक कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन न लें।

जीवनशैली में परिवर्तन करें
गंभीर या निरंतर तनाव शरीर में एचजीएच की उपस्थिति कम कर देता है। हंसी से शरीर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है और इस हार्मोन में वृद्धि होती है। फिल्म देखना भी फायदेमंद है।

ग्रोथ हार्मोन की दवा
ग्रोथ हार्मोन की कमी को पूरा करने के लिए बहुत दवाएं उपलब्ध हैं, लेकिन इन्हें खुद से नहीं लिया जाना चाहिए। डॉक्टर जरूरी समझते हैं तो ही वे निश्चित अवधि के लिए इससे संबंधित जरूरी दवा देते हैं।

एचजीएच के साइड इफेक्ट्स
बिना जरूरत इस हार्मोन के इस्तेमाल से कई परेशानियां खड़ी हो सकती हैं। इसके चलते शरीर का कोई भी अंग बढ़ सकता है, जैसे हाथ, पैर, जबड़ा। इसके दुष्प्रभावों में टाइप 2 डायबिटीज भी शामिल है।

कैसे बढ़ता है एचजीएच
आपके व्यायाम शुरू करने के आधे घंटे बाद शरीर में ग्रोथ हार्मोन बनना शुरू होता है, जो 45 मिनट तक बढ़ता है इसके बाद अगले 15 मिनट यानी कुल 60 मिनट तक स्थिर रहता है। 60 मिनट के बाद इसका स्तर घटना शुरू हो जाता है।
आपका शरीर जितना ग्रोथ हार्मोन पूरे दिन में बनाता है, उसका 75 फीसदी निर्माण शरीर अच्छी नींद के दौरान करता है।
विटामिन और डाइट ह्यूमन ग्रोथ हार्मोन के लिए सबसे जरूरी है, लेकिन सप्लीमेंट्स का इस्तेमाल बिना विशेषज्ञ की सलाह के न करें।
शरीर में ग्रोथ हार्मोन बनाए रखने के लिए रोजाना जरूरी कैलरी का 20 प्रतिशत भाग शुद्ध फैट से प्राप्त
होता है।

कुछ आहार, जो शरीर में बढ़ाएंगे ग्रोथ हार्मोन

ह्यूमन ग्रोथ हार्मोन सुगठित शरीर पाने की कुंजी है, क्योंकि मांसपेशियों के लिए यह अहम है। इसके लिए प्रोटीन में भरपूर संतुलित भोजन खाएं।

मांस और मछली
मांस और मछली एमिनो एसिड के सबसे महत्वपूर्ण स्रोतों में से हैं, जो पूरी तरह से प्रोटीन से भरपूर होते हैं। इससे आपको एमिनो एसिड प्राप्त होता है, जो आपके शरीर में एचजीएच बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

डेयरी और अंडे
डेयरी और अंडे भी भरपूर प्रोटीन प्रदान करते हैं। यानी वे एचजीएच बनाने के लिए आवश्यक सभी एमिनो एसिड प्रदान करते हैं। दूध और सोया दूध में प्रति एक गिलास में लगभग 8 ग्राम प्रोटीन होता है, जबकि स्ट्रिंग पनीर के एक टुकड़े या बड़े अंडे में 6 ग्राम प्रोटीन होता है।

शाक-सब्जी भी खाएं
आप आवश्यक एमिनो एसिड पाने के लिए पौधे आधारित प्रोटीन के स्रोत भी अपना सकते हैं। अधिकांश पौधों से प्राप्त प्रोटीन में कुछ एमिनो एसिड
होते हैं।

आवश्यकताओं को देखें
यदि आप अपने एचजीएच स्तर को अधिकतम करना चाहते हैं तो आपको नियोजित व्यायाम के साथ अपने प्रोटीन युक्त आहार का ध्यान रखना होगा। शरीर के वजन के प्रत्येक पाउंड (लगभग 453 ग्राम) के लिए 8 ग्राम प्रोटीन जरूरी होता है। भोजन से आप कैसे जरूरी प्रोटीन और एमिनो एसिड प्राप्त कर सकते हैं, इसकी जानकारी किसी विशेषज्ञ से अवश्य लें।

 

IMPORTANCE OF VITAMIN-D (विटामिन-डी का क्या महत्व है)

0

IMPORTANCE OF VITAMIN-D – विटामिन डी का क्या महत्व है
विटामिन डी एक पोषक तत्व के साथ शरीर में बनने वाला हार्मोन भी है। दुनिया भर में लगभग 10 करोड़ लोगों के रक्त में विटामिन डी का स्तर कम पाया गया है और यह कमी सभी जाति और आयु वर्ग के लोगों पाई गई है। यहाँ पर विटामिन डी का महत्व के बारे में बताया जा रहा है- पिछले दशक में हुये शोधों के अनुसार शरीर में विटामिन डी का रोगों से लड़ने की क्षमता हमारी सोच से कहीं ज्यादा है। विटामिन डी की कमी होने पर आपमें कई गम्भीर बीमारियाँ और संक्रमण हो सकते हैं।
विटामिन डी क्या है
विटामिन डी वसा में घुलनशील विटामिन के समूह में आता है और शरीर में कैल्शियम तथा फॉस्फेट के अवशोषण को बढ़ाता है। मानव में इस समूह में सबसे महत्वपूर्ण यौगिकों में विटामिन डी-3 और विटामिन डी-2 शामिल हैं। शरीर त्वचा में कोलेस्ट्राल से सूर्य के प्रकाश की उपस्थिति में विटामिन डी का निर्माण भी करता है। इसलिये इसे अक्सर सनशाइन विटामिन कहते हैं।
अनुशंसित दैनिक मात्रा
भारतीय डायटिक ऐसोसिएशन ने 2010 के पुनरीक्षित आँकड़ों के अनुसार पर्याप्त धूप के साथ प्रतिदिन 400 आईयू (10 ग्राम) की सलाह दी है। विटामिन डी के फायदे 1. शरीर में विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा से कैंसर, रिकेट्स, ऑस्टियोपोरेसिस, हृदय रोग, वृक्क रोग, तपेदिक, सर्दी-जुकाम, मोटापा, बालोंका झड़ना और अवसाद जैसे रोगों के खतरे कम होते हैं। 2. विटामिन डी प्रतिरक्षण तन्त्र को मजबूत करके सर्दी, फ्लू और निमोनिया से सुरक्षा प्रदान करता है। 3. विटामिन डी अच्छे प्रतिरक्षण तन्त्र के साथ स्वस्थ शिशु के विकास में सहायक है। यह समय पूर्व के जन्म से भी बचाता है। 4. विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा से गिरने, फ्रैक्चर, उच्च रक्तचाप और टाइप-1 मधुमेह से होने वाली चोटों के खतरों को कम करता है। 5. विटामिन डी घाव भरने में भी सहायक है विटामिन डी की कमी के लक्षण विटामिन डी की कमी के लक्षणों में अवसाद, पीठदर्द, मोटापा, ऑस्टियोपोरेसिस, मल्टिपल स्केलेरॉसिस, मसूढ़ों के रोग, प्रीमेन्स्ट्रुअल सिंड्रोम, दमा, ब्रान्काइटिस, तनाव और मधुमेह शामिल हैं।
महिलाओं के लिए उपयोगिता
विटामिन डी महिलाओं में पीरियड्स के दौरान होने वाले प्रीमेन्सट्रअल सिंड्रोम में भी सहायता करता है। गर्भावस्था के दौरान विटामिन डी की कमी से मां और बच्चे दोनों में कई जटिलताएं आ सकती हैं। मां के दूध में वैसे ही विटामिन डी कम होता है और जिन माताओं में विटामिन डी की कमी होती है, उनके बच्चों को विटामिन डी और कम मात्रा में मिल पाता है। ऐसे में बच्चे में रिकेट्स होने का खतरा बढ़ जाता है। महिलाओं को स्तनपान के दौरान शुरुआती तीन माह में विटामिन डी के सप्लीमेंट्स सावधानीपूर्वक लेने चाहिए, क्योंकि इससे यूरेनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन का खतरा बढ़ सकता है।
मुफ्त में मिलता है विटामिन डी
सिर्फ एक यही विटामिन है, जो हमें मुफ्त में उपलब्ध है। पर विटामिन डी हमारे संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। यह शरीर में कैल्शियम के स्तर को नियंत्रित करता है, जो तंत्रिका तंत्र की कार्य प्रणाली और हड्डियों की मजबूती के लिए जरूरी है। यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है। शरीर में विटामिन डी की उचित मात्रा उच्च रक्तचाप के खतरे को कम करता है। इसकी कमी से मेनोपॉज के बाद महिलाओं में आस्टियोपोरेसिस का खतरा बढ़ जाता है।
विटामिन डी के स्त्रोत
विटामिन डी का सबसे अच्छा स्त्रोत सूर्य की किरणें हैं। जब हमारे शरीर की खुली त्वचा सूरज की अल्ट्रावायलेट किरणों के संपर्क में आती है तो ये किरणें त्वचा में अवशोषित होकर विटामिन डी का निर्माण करती हैं। अगर सप्ताह में दो बार दस से पंद्रह मिनट तक शरीर की खुली त्वचा पर सूर्य की अल्ट्रा वायलेट किरणें पड़ती हैं तो शरीर की विटामिन डी की 80-90 प्रतिशत तक आवश्यकता पूरी हो जाती है। सूर्य की किरणों के बाद काड लीवर ऑयल विटामिन डी का सबसे अच्छा स्त्रोत है। इसके अलावा दूध, अंडे, चिकन, मछलियां जैसे सालमन, टय़ूना, मैकेरल, सार्डिन भी विटामिन डी के अच्छे स्त्रोत हैं। विटामिन डी को सप्लीमेंट के रूप में भी लिया जासकता है।

HAPPY ANNOUNCEMENT- ALLERGY PACK NOW @ 5000

0

ALLERGY TEST

हैप्पी अनाउंसमेंट,
आपके बिज़नेस को सपोर्ट देने के लिए एक और महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है। एक विशेष ऑफर एलर्जी पैक ( PACK – I ) अब ₹5000 में उपलब्ध होगा और सभी बेनिफिट्स पहले के तरह रहेंगे यानी रेफेरल अमाउंट 800 ही रहेगा तथा लेवल इनकम में भी कोई चेंज नहीं आएगा। ये ऑफर 31-08-20 तक ही उपलब्ध रहेगी। किसी भी प्रकार की अधिक जानकारी के लिए अपनी अप लाइन से तुरंत संपर्क करें।
विजय गुलाटी

Two New Packages Launched…..

0
packages
प्रिय साथियो ,
हेल्थ फर्स्ट ने दो नए पैकेज लांच कर दिए हैं जो तुरंत प्रभाव से उपलब्ध हैं।
PACK – K एवं PACK -L
पूरी डिटेल ब्रोचर में उपलब्ध है।
PACK – K कोविड 19  IGG एंटीबाडी टेस्ट के साथ लांच किया गया है जो कि इस श्रृंखला का विस्तारित PACK  है।
PACK -L विशेष रूप से जिम जाकर बॉडी बिल्डिंग करने वाले लोगों के लिए है।  वो लोग अपनी डाइट में स्टेरॉइड्स का इस्तेमाल करते हैं जिस से उनके हार्मोनल इम्बैलेंस  की सम्भावना हो जाती है।  इस पैक से वो अपनी बॉडी में होने वाली हार्मोनल चेंज के प्रति जागरूक हो सकते हैं एवम अपनी डाइट प्लान कर सकते हैं।
इन दोनों  PACK  की कॉस्ट 5000 है।  रेफरल इनकम 800  होगी और सभी बेनिफिट्स 6000  वाले पैकेज के बराबर रहेंगे।
 उम्मीद  है कि  सभी लोगों को इन नए पैकेजेस का भरपूर फायदा मिलेगा।
विस्तार से जानकारी लेने के लिए तुरंत अपने अप लाइन से संपर्क करें।
विजय गुलाटी

Electrolytes (इलेक्ट्रोलाइट) क्या हैं?

0
Electrolytes

इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन होने पर कौन-कौन-सी बीमारियां होने की संभावना रहती है, जानें!

क्या आपने कभी इस बारे में सोचा कि क्यों डिहाइड्रेशन की वजह से आपका शरीर सूजा हुआ या फूला हुआ दिखता है? जब आपके शरीर को पानी की कमी महसूस होती है तो वह शरीर के तरल पदार्थ के स्तर को बनाए रखने की कोशिश करता है। दूसरे शब्दों में, यह होमिओस्टैसिस (homeostasis) प्रक्रिया है जिसके माध्यम से आपका शरीर बाहरी वातावरण में बदलाव के बावजूद आपके शरीर के आंतरिक वातावरण को व्यवस्थित रखने की कोशिश करता है। जब आपके शरीर में पानी की कमी हो जाती है, तो आपका शरीर एंटीडिअरीटिक हार्मोन (antidiuretic hormone), वैसोप्रेसिन (vasopressin) का निर्माण करता है जो आपकी किडनी को पानी बचाने के संकेत देता है। यह वह तरल है जो पेशाब के माध्यम से शरीर के बाहर निकल जाता है। इस तरह, आपके शरीर में पानी की भयंकर कमी नहीं होने पाती।

होमिओस्टैसिस ग्रीक भाषा का एक शब्द है, जो ‘होमो’ और ‘स्टैटिस’ से बना है। ‘होमो’ का अर्थ है ‘इसी तरह’ और ‘स्टैटिस’ यानि ‘स्थायी स्थिर’ क्रमशः और जैसा कि आप समझ सकते हैं, यह आपके अस्तित्व के लिए यह महत्वपूर्ण है। लेकिन होमिओस्टैसिस के काम करने के लिए यह महत्वपूर्ण है कि आपके शरीर में एक अच्छा इलेक्ट्रोलाइट का संतुलन रहे। कैल्शियम, पोटैशियम, मैग्नीशियम, फॉस्फेट और सोडियम जैसे मिनरल या खनिजों को इलेक्ट्रोलाइट्स कहा जाता है। इन खनिजों में बिजली का संचार होता है जो सोचने और देखने जैसी शारीरिक गतिविधियों के लिए आवश्यक बिजली के आवेगों को उत्पन्न करने में मदद करते हैं।

इलेक्ट्रोलाइट्स का असंतुलन क्या है?

इलेक्ट्रोलाइट के असंतुलन (electrolyte imbalance) के कई कारण हो सकते हैं। डायरिया से लेकर कोई जानलेवा बीमारी भी इसकी वजह हो सकती है। इन दोनों के अलावा, कुछ सामान्य कारणों में डिहाइड्रेशन, एक्सरसाइज, विटामिन डी की कमी, नशीली दवाओं की लत, लैक्सेटिव का अधिक सेवन (laxative abuse), सर्जरी, सिरोसिस या हार्ट फेलियर जैसे कारण भी इलेक्ट्रोलाइट्स का असंतुलन की वजह बन सकते हैं। अज्ञात या इडियोपैथिक कारणों से इलेक्ट्रोलाइट्स का गंभीर नुकसान हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान भी यह समस्या काफी सामान्य है।

इलेक्ट्रोलाइट्स का असंतुलन के लक्षण क्या हैं?

यदि यह संवेदनशील संतुलन गड़बड़ा जाए, तो शरीर ख़राब हो जाता है और कुछ गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। इसकी वजह से मांसपेशियों में ऐंठन, पेट की समस्याएं, चिंता, ब्लड प्रेशर में बदलाव, हृदय की धड़कन बदलने और चक्कर जैसी तकलीफें होने लगती हैं।

सोडियम का असंतुलन:

हाइपरनेट्रामिया (Hypernatremia) या हाइपोनाइट्रेमिया (hyponatremia) वह स्थिति है, जहां शरीर में सोडियम की बहुत अधिक कमी हो जाती है। बहुत ज्यादा सोडियम की वजह से डिप्रेशन, चिड़चिड़ापन, न्यूरोलॉजिकल समस्याएं, मांसपेशियों में ऐंठन, मतली, उल्टी, सही तरीके से सांस लेने में तकलीफ, बहुत ज़्यादा प्यास लगना और बुखार जैसी समस्याएं हो सकती हैं।1 शरीर में कम सोडियम के चलते  मतली, उल्टी, भूख न लगना और न्यूरोलॉजिकल समस्याएं हो सकती है। बुजुर्गों को सोडियम की कमी के कारण चलने में तकलीफ और उन्हें अक्सर गिर जाने जैसी समस्याएं हो सकती है। अक्यूट हाइपोनाइट्रेमिया (Acute hyponatremia) भी मस्तिष्क में पानी के संग्रहण के कारण न्यूरोलॉजिकल समस्याओं का कारण बन सकता है।2

पोटैशियम का असंतुलन:

जब रक्त में पोटैशियम की मात्रा बढ़ जाती है, तो यह हमारे लिए जानलेवा बीमारियों का कारण बन सकता है जैसे कि धड़कन की गति बिगड़ना,  न्यूरोलॉजिकल डिस्फंक्शन और हार्ट फेलियर। यह हृदय की मांसपेशियों का संकुचन बंद कर देता है, जिसकी वजह से  व्यक्ति की अचानक मृत्यु हो सकती है।.3

कैल्शियम का असंतुलन:

शरीर में कैल्शियम की कमी, विटामिन डी के कम सेवन के कारण हो सकती है। इसके लक्षण मांसपेशियों की कमज़ोरी, ऐंठन, चिड़चिड़ापन, दौरा,  मानसिक क्षमता को नुकसान, थकान, चिंता, कमज़ोर याद्दाश्त , निराशा, एकाग्रता या फोकस में कमी और पागलपन आदि हो सकते हैं। कैल्शियम के अंसतुलन की वजह से त्वचा का रूखापन, मोटे बाल,  एक्जिमा, सोरायसिस, डर्मटाइटिस, दांतों आने में देरी और नाखून कमज़ोर होने जैसी समस्याएं होती हैं। ज्यादा मात्रा में कैल्शियम लेने से किडनी स्टोन, हड्डियों में दर्द, पेट से जुड़ी समस्याएं, डिहाइड्रेशन  और चिंता, काग्निटिव समस्याएं और अनिद्रा जैसी दिमागी बीमारियां होती है।

डिस्क्लेमर : इस पोस्ट में दी गयी सामग्री का उद्देश्य आपको मात्र जानकारी देना है। कृपया इसका प्रयोग किसी भी प्रकार के उपचार के लिए ना करें एवं अपने चिकित्सक से उचित परामर्श अवश्य लें।

कोरोना वायरस: एंटी-बॉडी टेस्ट क्या होते हैं और इनसे क्या पता चलता है?

0
igg

सबसे पहले जानिये, एंटी-बॉडी क्या होती है?

जब हमारे शरीर में कोई वायरस जाता है तो इम्युन सिस्टम एक्टिवेट हो जाता है और यह वायरस या इंफेक्शन को रोकने की प्रक्रिया शुरू कर देता है।
इस दौरान अलग-अलग सेल्स मिलकर वायरस को बेअसर करने में लग जाती है। इन्हें एंटी-बॉडी कहा जाता है।
ऐसा नहीं है कि ये एंटी-बॉडी काम करने के बाद खत्म हो जाती है। ये कुछ समय तक शरीर में मौजूद रहती हैं ताकि अगर वायरस दोबारा आए तो उससे लड़ा जा सके।
आईजीजी और आईजीएम इम्युनोग्लोबुलिन जी और इम्युनोग्लोबुलिन एम की शॉर्ट फॉर्म हैं. इम्युनोग्लोबुलिन को एंटीबॉडी के रूप में भी जाना जाता है और यह शरीर के इम्‍यूनिटी सिस्‍टम द्वारा उत्पादित पदार्थ जैसे बैक्टीरिया, वायरस, कवक या अन्य पदार्थों जैसे कि एनिमल डैन्‍डर या कैंसर कोशिकाओं के जवाब में उत्पन्न होते हैं. एंटीबॉडीज फॉरन सब्स्टन्स को मिलाते या जोड़ते हैं, जिससे ये इम्‍यूनिटी सिस्‍टम की सेल्‍स द्वारा नष्ट या बेअसर हो जाते हैं. एंटीबॉडी आमतौर पर हर प्रकार के फॉरन सब्स्टन्स के लिए विशिष्ट होती हैं, जैसे कि एक टुबर्क्युलोसिस बैक्टीरिया के जवाब में उत्पादित एंटीबॉडी केवल टुबर्क्युलोसिस के बैक्टीरिया से जुड़ी होती हैं. एंटीबॉडी भी एलर्जी प्रतिक्रियाओं में एक भूमिका निभाते हैं और कभी-कभी एक व्यक्ति के ऊतकों के खिलाफ उत्पन्न हो सकता है, जिसे आटोइम्यून डिजीज कहा जाता है. पांच प्रमुख प्रकार के एंटीबॉडी हैं – IgA, IgG, IgM, IgD और IgE. आईजीजी एंटीबॉडी सबसे छोटी एंटीबॉडी हैं और बॉडी के लिक्विड पदार्थों में पाए जाते हैं. ये दो हैवी और लाइट श्रृंखलाओं से बने होते हैं और प्रत्येक अणु में दो एंटीजन बिल्डिंग साइट होते हैं. ये सबसे अबन्डन्ट मात्रा में इम्युनोग्लोबुलिन हैं, शरीर में इसकी मात्रा 75-80 फीसदी होती है. आईजीजी एंटीबॉडी बैक्टीरिया और वायरल इंफेक्‍शन से लड़ने के लिए जरूरी हैं. आईजीजी एक प्रकार का एंटीबॉडी है, जो प्‍लेसेंटा को पार कर सकता है, इसलिए एक गर्भवती महिला के आईजीजी एंटीबॉडी भी बच्चे को जीवन के शुरुआती हफ्तों में सुरक्षित रखने में मदद कर सकते हैं. IgM एंटीबॉडी का सबसे बड़ा प्रकार है और यह बल्‍ड और लसीका द्रव में पाए जाते हैं और इंफेक्‍शन के जवाब में उत्पादित एंटीबॉडी का पहला प्रकार होते हैं. ये यौगिकों का उत्पादन करने के लिए अन्य प्रतिरक्षा प्रणाली कोशिकाओं का भी कारण बनते हैं जो इन्वैड कोशिकाओं को नष्ट कर सकते हैं. आईजीएम एंटीबॉडी आमतौर पर शरीर में सभी एंटीबॉडी के लगभग 5% से 10% तक होते हैं.
COVID-19 के लिए एंटी-बॉडी टेस्ट में क्या होता है?
इसके लिए सबसे पहले व्यक्ति का खून निकालकर उसका सीरम और प्लाज्मा अलग किया जाता है।
उसके बाद मरीज के प्लाज्मा को कोरोना वायरस (एंटीजंस) के संपर्क में लाया जाता है ताकि देखा जा सके कि इसमें वायरस के प्रति एंटी-बॉडी बनी है या नहीं।
अगर व्यक्ति संक्रमित होता है तो उसके शरीर में एंटी-बॉडी होती है और ये टेस्ट के दौरान कोरोना वायरस से चिपक जाएंगी।

शरीर में एंटी-बॉडी बनने में लगता है समय

  • किसी भी वायरस के प्रति हमारे शरीर में एंटी-बॉडी बनने में कुछ समय लगता है। इसलिए कई बार संक्रमण के शुरुआती दिनों में एंटी-बॉडी टेस्ट से किसी में वायरस होने की पुष्टि नहीं हो पाती।

एंटी-बॉडी टेस्ट के साथ ये कदम भी जरूरी

एंटी-बॉडी टेस्ट से सरकारों और वैज्ञानिकों को कोरोना वायरस का प्रसार समझने में मदद मिलती है। बहुत लोग ऐसे होते हैं, जिनमें संक्रमण के कोई लक्षण नहीं होते, एंटी-बॉडी टेस्ट से उनका पता लगाया जा सकता है।
जानकारों का कहना है कि एंटी-बॉडी टेस्ट के साथ-साथ डायग्नोस्टिक टेस्ट, कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग, सोशल डिस्टेंसिंग और संदिग्ध मरीजों को क्वारंटाइन कर महामारी के संक्रमण पर काफी हद तक काबू पाया जा सकता है।

डिस्क्लेमर : इस पोस्ट में दी गयी सामग्री का उद्देश्य आपको मात्र जानकारी देना है। कृपया इसका प्रयोग किसी भी प्रकार के उपचार के लिए ना करें एवं अपने चिकित्सक से उचित परामर्श अवश्य लें।

COVID SPECIAL PACKAGE – (PACK -J)

0

प्रिय साथियो,
कोरोना की परिस्थितियों एवं समय की मांग को ध्यान में रखते हुए एक नया पैकेज (PACK – J ) लांच कर दिया गया है। इस पैकेज में कोविड-19 एंटी बॉडीज (IGG ), टेस्ट के साथ साथ BICARBONATE को भी शामिल किया गया है। डिटेल्स इस प्रकार हैं।

COVID 19 – IGG ANTIBODY (1)*

BICARBONATE (1)

LIVER FUNCTION (11),
KIDNEY FUNCTION WITH EGFR (7)

LIPID PROFILE – CHOLESTROL (8)

THYROID (3)
IRON (3)
SUGAR (2-HBA1C, ABG)
CBC- HEMOGRAM (24)
BICARBONATE (1)
ESR (1)
ELECTROLYTS (3)

Total 64 Tests

Package Price – ₹3750/-

 

COVID 19 – IGG एंटीबाडी के बारे में विस्तार से जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे: https://bit.ly/30aFySa

BICARBONATE टेस्ट आपके शरीर में कार्बन डाइऑक्साइड की अधिकता को मापने का महत्वपूर्ण अंश है।
यह परीक्षण इलेक्ट्रोलाइट फैलाव और आयनों की कमी का एक महत्वपूर्ण संकेतक है।
इस से शरीर की चयापचय क्षारमयता या अम्लमयता के बारे में भी पता चलता है शरीर के एसिड-बेस बैलेंस (पीएच) का विश्लेषण करने के Ph वैल्यू मेन्टेन करने में मदद मिल जाती है। Ph वैल्यू का बिगड़ना ही अपने आप में कई बीमारियों को जन्म देता है।
उम्मीद है की इस पैकेज से आप सभी को उचित फायदा मिलेगा।

*COVID 19- IGG TEST will be done by Thyrocare and all other tests will be done by HyPatho lab….

COVID-19 Antibody Test (कोविड 19 – एंटी बॉडी टेस्ट)

0

What is COVID-19?

COVID-19 is caused by the SARS-CoV-2 virus. This virus, which can cause mild to severe respiratory illness, has spread globally, including to the United States. There is limited information available to fully describe the different types of clinical illness associated with COVID-19. This illness likely spreads to others when a person shows signs or symptoms of being sick (e.g., fever, coughing, difficulty breathing, etc.) or in the few days leading up to symptoms.

What is the COVID-19 Antibody test?

The test is designed to detect antibodies (also known as immunoglobulins) against the virus that causes COVID-19. Antibodies are proteins produced by the immune system in response to an infection and are specific to that particular infection. They are found in the liquid part of blood specimens which is called serum or plasma, depending on the presence of clotting factors. Today your sample will be tested for immunoglobulin G (IgG).

This test detects IgG antibodies that develop in most patients within seven to 10 days after symptoms of COVID-19 begin. IgG antibodies remain in the blood after an infection has passed. These antibodies indicate that you may have had COVID-19 in the recent past and have developed antibodies that may protect you from future infection. It is unknown at this point how much protection antibodies might provide against another infection with SARS-CoV-2.

What are the known and potential risks and benefits of the test?

Potential risks include:

  • Possible discomfort, bruising, infection or other complications that can happen during sample collection. Serious complications are very rare.
  • Possible incorrect test result (see below for more information).

Potential benefits include:

  • The results, along with other information, can help your health care provider make informed recommendations about your care.
  • The results of this test may help limit the spread of COVID-19 to your family and others in your community.

What does it mean if I have a positive test result?

If you have a positive test result (antibodies are detected), you may have been infected with the virus that causes COVID-19 at some point in the past. There is still a chance that the antibodies indicate past infection due to other coronaviruses. These other coronaviruses cause the common cold. There is also a small chance that a positive result is incorrect (false positive).

The presence of IgG suggests that the infection happened weeks to months in the past. It also suggests that you may no longer be infectious. IgG indicates that you may have some immunity to the virus, though you may not. How much it might protect you from getting sick with COVID-19 in the future is unknown.

Your health care provider will work with you to determine how best to care for you based on the test results along with other factors of your medical history, including any previous symptoms, possible exposure to COVID-19 and the location of places you have recently traveled.

What does it mean if I have a negative test result?

A negative test result means that the antibodies to the virus that causes COVID-19 were not found in your sample. Some health conditions might make it difficult for your body to produce antibodies to an infection. However, it is possible for this test to give a negative result that is incorrect (false negative) in some people.

A negative result may occur if you are tested early in your illness and your body hasn’t had time to produce antibodies to infection. This means that you could possibly still have COVID-19 even though the test is negative. If this is the case, your health care provider will consider the test result together with all other aspects of your medical history (such as symptoms, possible exposures and geographical location of places you have recently traveled) in deciding how to care for you.

It is important that you work with your health care provider to help you understand the next steps you should take.

Liver Function Test (LFT): लिवर फंक्शन टेस्ट

0
Liver Functon Test

लिवर फंक्शन टेस्ट एक तरह का ब्लड टेस्ट है जो लिवर की बीमारी और किसी तरह की क्षति की जांच के लिए किया जाता है। यह टेस्ट ब्लड में कुछ एंजाइम्स और प्रोटीन की मात्रा को मापता है।

कुछ टेस्ट यह पता लगाने के लिए किए जाते हैं कि लिवर प्रोटीन बनाने और रक्त के अपशिष्ट पदार्थ बिलिरुबिन को साफ करने का अपना सामान्य काम कितनी अच्छी तरह कर रहा है। कुछ अन्य लिवर टेस्ट उन एंजाइम्स को मापते हैं जो लिवर की कोशिकाओं द्वारा बीमारी या क्षति के कारण रिलीज किया जाता है।

लिवर टेस्ट का असामान्य होने का मतलब लिवर की बीमारी का संकेत हो ऐसा जरूरी नहीं है। आपका डॉक्टर रिजल्ट को अच्छी तरह समझाएगा।

लिवर फंक्शन टेस्ट (Liver Function Test) क्यों किया जाता है?

लिवर फंक्शन टेस्ट यह पता लगाने के लिए किया जाता है:

  • हैपेटाइटिस जैसे लिवर संक्रमण का पता लगाना
  • किसी बीमारी की निगरानी जैसे वायरल और एल्कोहलिक हैपेटाइटिस। साथ ही यह पता लगाने के लिए कि बीमारी का इलाज कितनी अच्छी तरह चल रहा है।
  • किसी बीमारी की गंभीरता को मापना, खासतौर पर लिवर के जख्म (सिरोसिस)।
  • दवाइयों के साइड इफेक्ट की निगरानी करना।

लिवर फंक्शन टेस्ट आपके खून में कुछ एंजाइम्स और प्रोटीन के स्तर को मापता है। इन स्तर का सामान्य से कम या ज्यादा होना लिवर की समस्या का संकेत है। कुछ आम लिवर फंक्शन टेस्ट में निम्न शामिल हैं-

  • एलनिन ट्रांसएमिनेस (ALT)। ALT लिवर में पाया जाने वाला एंजाइम है जो शरीर को प्रोटीन के चयापचय (metabloism) में मदद करता है। जब लिवर क्षतिग्रस्त होता है तो ALT ब्लड में छोड़ दिया जाता है जिससे इसका स्तर बढ़ जाता है।
  • एस्पार्टेट ट्रांसएमिनेस (AST)। AST एक एंजाइम है जो एलेनिन को चयापचय में मदद करता है, एलेनिन एक अमिनो एसिड है। ALT की तरह ही AST भी खून में थोड़ी मात्रा में मौजूद रहता है, मगर लिवर या मसल्स को क्षति पहुंचने पर इसका स्तर बढ़ जाता है।
  • एल्कालाइन फॉस्फेट्स (ALP)। ALP लिवर, पित्त नलिकाओं और हड्डियों में पाया जाने वाला एंजाइम है। इसका सामान्य से ज्यादा होना लिवर के रोगग्रस्त होने जैसे पित्त नलिकाओं में ब्लॉकेज या कुछ हड्डियों की बीमारी का संकेत हो सकता है।
  • एल्बुमिन और टोटल प्रोटीन। एल्बुमिन लिवर में बनने वाले कई प्रोटीन में सेएक है। शरीर को संक्रमण से बचाने और अन्य कार्य के लिए इन प्रोटीन की जरूरत होती है। एल्बुमिन और टोटल प्रोटीन का सामान्य से कम स्तर लिवर के क्षतिग्रस्त या रोगग्रस्त होने का संकेत हो सकते हैं।
  • बिलीरुबिन सामान्य रूप से रेड ब्लड सेल्स के टूटने के दौरान बनने वाला अपशिष्ट है। यह लिवर से गुज़रता हुआ मल के ज़रिए बाहर निकलता है। बिलीरूबिन का उच्च स्तर लिवर की बीमारी, क्षति या किसी तरह के एनिमिया का संकेत हो सकता है।
  • गामा-ग्लूटामाइलट्रांसफेरेज़ (GGT)। GGT खून में पाया जाने वाला एंजाइम है। इसकी बढ़ी हुई मात्रा लिवर या पित्त नलिका के क्षतिग्रस्त होने का संकेत हो सकता है।

आपका डॉक्टर परिणाम के आधार पर आपकी स्वास्थ्य स्थितियों का निदान और उपचार निर्धारित करेगा। यदि आपको पहले से लिवर की बीमारी है तो लिवर फंक्शन टेस्ट से इलाज की प्रगति का पता चलेगा।

लैबोरैट्री और अस्पताल के आधार पर लिवर फंक्शन टेस्ट की सामान्य रेंज अलग-अलग हो सकती है। टेस्ट रिजल्ट के बारे में किसी तरह का संदेह होने पर डॉक्टर से सलाह लें।

HbA1c टेस्ट की जानकारी – ब्लड शुगर टेस्ट से कैसे अलग है?

0
Test for Diabetes
Sugar Test

HbA1c यानी हीमोग्लोबिन A1c. यह लैब में होने वाला एक ब्लड टेस्ट होता है, जो डॉक्टर की सलाह पर कम से कम तीन महीनों के अंतराल में कराया जाता है. यह टेस्ट ब्लड शुगर लेवल की जांच करने के लिए बिना खाना खाए और खाना खाने के बाद किए जाने वाले टेस्ट से अलग है. यह उन टेस्ट के मुकाबले ज़्यादा भरोसेमंद माना जाता है जिनसे सिर्फ़ खाने से ठीक पहले या बाद में ब्लड शुगर लेवल की जानकारी मिलती है. HbA1c से लंबे समय के दौरान ब्लड शुगर में उतार-चढ़ाव की जानकारी मिलती है.

यह सामान्य ब्लड शुगर टेस्ट से अलग कैसे है?

HbA1c टेस्ट में, ख़ून में मौजूद ग्लाइकेटेड हीमोग्लोबिन की मात्रा की जांच करके पिछले 3 महीनों का औसत ब्लड ग्लूकोज़ लेवल का पता लगाया जाता है. जब आप ख़ुद  ब्लड शुगर लेवल की जांच करते हैं, तो इससे सिर्फ़ टेस्ट के वक्त का ब्लड ग्लूकोज़ लेवल पता चलता है.

इसके अलावा, HbA1c टेस्ट दिन के किसी भी वक्त करवाया जा सकता है, इसके लिए खानपान से जुड़ी कोई पाबंदी नहीं होती. जबकि सामान्य टेस्ट जैसे कि फ़ास्टिंग ब्लड शुगर (एफबीएस) और ओरल ग्लूकोज़ टॉलेरेंस टेस्ट (ओजीटीटी) के लिए खानपान से जुड़ी पाबंदियां होती हैं.

HbA1c टेस्ट कैसे काम करता है?

जब ख़ून में शुगर लेवल बढ़ता है, तो ग्लूकोज़, हीमोग्लोबिन के साथ मिलकर ग्लाइकेटेड हीमोग्लोबिन तैयार करता है और इस ग्लाइकेटेड हीमोग्लोबिन टेस्ट को HbA1c भी कहते हैं, जो की ग्लूकोज़ से जुड़े हीमोग्लोबिन की मात्रा नापता है। इस टेस्ट में खून का सैंपल ऊँगली की बजाए, नसों से निकाले गए ख़ून के सैंपल का इस्तेमाल किया जाता है।

इसकी क्या ज़रूरत है?

HbA1c टेस्ट के नतीजे से किसी व्यक्ति के पिछले 3 महीने के ब्लड शुगर का पता लगाया जा सकता है. इससे डॉक्टर को आपकी स्थिति की जानकारी मिलती है और वह तय कर पाते हैं कि अच्छे ग्लूकोज़ कंट्रोल के लिए आपके इलाज में बदलाव किए जाने चाहिए या नहीं.

HbA1c टेस्ट का इस्तेमाल टाइप 2 डायबिटीज़ की स्क्रीनिंग और पहचान के लिए किया जाता है. इसका इस्तेमाल कई दिनों के ग्लूकोज़ लेवल पर नज़र रखने के लिए भी किया जाता है. इसकी मदद से डॉक्टर आपके लिए सही डायबिटीज़ का इलाज तय कर पाते हैं.

टेस्ट से यह भी जानकारी मिलती है कि क्या स्थिति में सुधार आया है, जैसे कि डायबिटीज़ के कुछ लक्षण ठीक हो गए हैं या सभी लक्षण ख़त्म हो चुके हैं. या दवाइयों/इंसुलिन की ज़रूरत बदल गई है.

कितने समय में यह टेस्ट करवाना चाहिए?

जब आपको HbA1c टेस्ट की सलाह दी जाएगी, तब आपके डॉक्टर आपको इस बात की जानकारी देंगे. HbA1c टेस्ट के लिए आमतौर पर आपको नीचे दी गई सलाह दी जाती है:[1]

  • अगर आपका ब्लड शुगर सामान्य है – साल में कम से कम 2 बार
  • अगर आपका ब्लड शुगर सामान्य से ज़्यादा है– एक साल में चार बार
  • अगर आपका ब्लड शुगर लेवल लगातार कम ज़्यादा होता रहता है या आप इंटेंसिव थेरेपी लेते हैं – साल में चार से ज़्यादा बार

HbA1c लेवल ज़्यादा है, तो क्या करें?

  • अपने डॉक्टर से सलाह लें, वह जांच करके आपके हिसाब से HbA1c लेवल कम करने के लिए अलग-अलग तरीके बताएंगे
  • समय-समय पर शुगर लेवल की जांच कराते रहे
  • जीवनशैली में बदलाव लाये
  • खान-पान में बदलाव करे
  • रोज़ाना एक्सरसाइज़ करे
  • वज़न को बढ़ने न दे
  • अत्यधिक तनाव न ले

ऐसा करके आप अपने HbA1c लेवल को कम कर सकते हैं।

जानिए क्यों जरुरी है फुल बॉडी चेकअप तथा Full Body Checkup List

0

फुल बॉडी चेकअप (पूरे शरीर की जांच) कराने की कोई उम्र नहीं होती, चाहे रिस्क फैक्टर हो या नहीं हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार, यदि आपकी सेहत बिल्कुल ठीक है और आपको लाइफस्टाइल संबंधी कोई बीमारी नहीं है, तो भी अच्छे स्वास्थ्य के लिए आपको 25 साल की उम्र के बाद से अपना फुल बॉडी चेकअप नियमित रूप से ज़रूर कराना चाहिए | एक समय था, जब ये माना जाता था कि 30-35 साल की उम्र के बाद अपना हेल्थ चेकअप कराना चाहिए, क्योंकि उम्र बढ़ने के साथ-साथ शरीर अनेक बीमारियों से ग्रस्त रहने लगता है, लेकिन आज समय बदल गया है आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी, बदलती लाइफ स्टाइल, प्रदूषण, काम के बढ़ते बोझ, खान-पान की गलत आदतों को देखते हुए अब 25 की उम्र से ही फुल बॉडी चेकअप कराना शुरू कर देना चाहिए | शराब, स्मोकिंग, शारीरिक श्रम के अभाव, तनाव की जिंदगी, आचार-विचार, व्यवहार व आहार में अनियमितता के कारण हृदय रोग, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, कैंसर आदि रोगों ने उसे आ घेरा है। दुनिया में हर साल करीब 9 करोड़ 20 लाख व्यक्ति दिल की बीमारियों के शिकार हो जाते हैं।

हमारे देश में तीन करोड़ दिल की बीमारियों से पीड़ित हैं। देश में 40 प्रतिशत स्त्रियाँ दिल की रोगी हैं। सिर्फ दिल्ली में करीब ढाई लाख व्यक्ति दिल की बीमारी की गिरफ्त में हैं। प्रति एक हजार की आबादी में 30 लोग दिल के मरीज हैं। मधुमेह के लगभग दो करोड़ 30 लाख रोगी हमारे देश में हैं। धूम्रपान के कारण प्रतिवर्ष 30 लाख व्यक्ति मौत का शिकार हो जाते हैं। हृदयरोग, उच्च रक्तचाप, कैंसर आदि के प्रमुख कारणों व लक्षणों का समय पर ही निदान हो जाए तो इन रोगों से बचाव किया जा सकता है। शारीरिक स्वास्थ्य परीक्षण (full body check up or complete health check up) का मुख्य उद्देश्य यही है कि उन कारणों की जाँच कर ली जाए, जिसके कारण इन रोगों की संभावना बनी रहती है और उन विशेष रोगों से समय पर ही इलाज एवं निदान कर लिया जाए। होल बॉडी चेकअप में किसी तरह का कोई जोखिम शामिल नहीं होता हैं  साल में एक बार पूरे शरीर की जांच जरुर करवानी चाहिए

क्यों करवाना चाहिए फुल बॉडी चेकअप?

  • टेस्ट कराने से यह पता चलता है कि आप पूरी तरह से फिट हैं या नहीं |
  • टेस्ट कराने से वक्त रहते ही गंभीर बीमारियों का पता चल जाता है, जिससे समय रहते ही उनका इलाज हो सकता है, मेडिकल टेस्ट से पीढ़ी-दर-पीढ़ी चली आ रही जेनेटिक बीमारयों का पता चलता है |

फुल बॉडी चेकअप में होने वाले टेस्ट तथा उनकी जरुरत

हृदय रोग :

  • मोटापा, उच्च रक्तचाप, अनिद्रा, तनाव, मधुमेह, धूम्रपान, शराब, कोलेस्टरॉल, शारीरिक श्रम में कमी हृदय रोग को जन्म देते हैं। इसलिए फुल बॉडी चेकअप के समय उन महत्त्वपूर्ण घटकों की ओर विशेष ध्यान दिया जाता है। वजन, मोटापा सेहत का दुश्मन होता है। मोटापा के कारण उच्च रक्तचाप, दिल का दौरा, मधुमेह, कोलेस्टरॉल में वृद्धि, सीने में दर्द, पित्त की थैली में पथरी, सांस के रोग की अधिक संभावना रहती है। इसलिए जिस व्यक्ति का वजन अधिक है, उसको आहार में नियमित संतुलित भोजन तथा शारीरिक श्रम द्वारा वजन में कमी करने का प्रयास किया जाता है। हृदय रोग संबंधी व्यापक जांच में ट्रेडमिल टेस्ट, ईकोकार्डियोग्राफी और होमोसिस्टाइन और लिपोप्रोटीन-ए जैसे जाँच शामिल हैं | 

    उच्च रक्तचाप :

    • हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण शुरुवात में दिखाई नहीं देते हैं परंतु धीरे-धीरे अधिक रक्तचाप खतरे का कारण बन जाता है। निरंतर रक्तचाप बढ़ा रहे तो यह हृदय के कार्यभार को बढ़ा देता है। यह धमनियों के सख्त होने की प्रक्रिया को और भी तीव्र कर देता है। धमनियाँ जब सँकरी और सख्त हो जाती हैं तो वे शरीर के अंगों को उतना रक्त नहीं पहुंचा पातीं, जिससे वह अपना कार्य भली-भाँति कर सके। उच्च रक्तचाप यदि अधिक समय तक बना रहे तो हृदय, गुर्दे और तंत्रिकाओं पर इसका ख़राब प्रभाव पड़ता है, जिससे आँखों के पीछे स्थित रक्त वाहिनियाँ सिकुड़ जाती हैं। लकवा होने की संभावना अधिक हो जाती है। उच्च रक्तचाप की अवस्था में कुछ बातों पर ध्यान देना आवश्यक हो गया है। उच्च रक्तचाप के रोगी के लिए जरूरी है कि वह धूम्रपान छोड़ दे। अपने आहार में घी तेल का प्रयोग कम करे। शारीरिक परिश्रम पर अधिक ध्यान दे। नमक का प्रयोग कम करे। अपने वजन पर ध्यान दे तथा नियमित रूप से रक्तचाप की जाँच करवाए। फुल बॉडी चेकअप की जाँच में हाई ब्लड प्रेशर के कारणों को भी खोजा जाता है तथा कारणों के अनुसार ही उपचार किया जाता है ताकि ह्रदय को अधिक नुकसान ना पहुंचे |
  • वसा व कोलेस्टरॉल की जाँच  :
    • यदि आहार में जीव स्रोत से उत्पन्न वसा, मांस या अधिक चिकनाई व तली चीजों का सेवन किया जाए तो कोलेस्टरॉल की मात्रा बढ़ जाती है, जिससे हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, मोटापा, बड़ी आँत का कैंसर, पौरुष ग्रंथि का कैंसर, स्तन का कैंसर अधिक देखा गया है। सामान्य से जितनी अधिक मात्रा कोलेस्टरॉल की होती है, उतनी ही अधिक संभावना इन रोगों की बनी रहती है। अतः यह टारगेट होना चाहिए कि रक्त में कोलेस्टरॉल की मात्रा 180 मि. ग्राम प्रति लीटर से अधिक न हो। नियमित संतुलित भोजन, वजन में कमी तथा शारीरिक परिश्रम द्वारा यह संभव है।

मधुमेह :

  • मधुमेह के रोगियों को अधिकतर पहले यह पता नहीं चल पाता कि वे मधुमेह के रोगी हैं। मधुमेह के रोगी संक्रमण के अधिक तथा जल्दी शिकार होते हैं। 25 वर्ष बाद 50 प्रतिशत रोगी आँखों के रोग के शिकार होते हैं, 4 गुना रोगियों को टी बी रोग घेर लेता है। चार गुना अधिक दिल का दौरा होता है। मोटापा भी मधुमेह का प्रमुख कारण है। इसलिए वजन में कमी, शारीरिक परिश्रम तथा नियमित एवं संतुलित आहार द्वारा उपचार संभव है। 40 वर्ष की आयु के बाद प्रति वर्ष रक्त में ग्लूकोज की जाँच अनिवार्य है। फुल बॉडी चेकअप के दौरान इसकी भी जाँच की जाती हैं |

थायरॉइड की जाँच

  • थायरॉइड एक ऐसा रोग है जो लगभग पूरी तरह से हॉर्मोंस पर निर्भर करता है। हमारे थायरॉइड ग्लैंड्स शरीर से आयोडीन लेकर इन्हें बनाते हैं। थायरॉयड ग्लैंड हमारे गले के निचले हिस्से में स्थित होता है। इससे खास तरह के हॉर्मोन टी-3, टी-4 और टीएसएच (थायरॉयड स्टिम्युलेटिंग हॉर्मोन) का स्राव होता है, जिसकी मात्रा के असंतुलन का हमारी सेहत पर प्रतिकूल प्रभाव पडता है। शरीर की सभी कोशिकाएं सही ढंग से काम कर सकें, इसके लिए इन हॉर्मोस की जरूरत होती है।हार्मोन की कमी या अधिकता का सीधा असर व्यक्ति की भूख, वजन, नींद और मानसिक तनाव पर दिखाई देता है।

ब्लड टेस्ट

  • फुल बॉडी चेकअप में यह सबसे पहली और सबसे जरूरी जांच होती है। इसके जरिए हीमोग्लोबिन का स्तर, पॉलिमोर्फ्स, लिंफोसाइट, मोनोसाइट, प्लेटलेट्स आदि के स्तर को मापा जाता है। इसी ब्लड टेस्ट के जरिए ब्लड शुगर, कोलेस्ट्रॉल आदि की जांच भी की जाती है। किसी भी तरह के असामान्य स्तर होने पर दूसरे खास टेस्ट किए जाते हैं।

लिवर फंक्शन टेस्ट

  • फुल बॉडी चेकअप में लीवर की जाँच भी जरुर शामिल की जाती है इसमें प्रोटीन, एल्बुमिन, ग्लोबुलिन, बिलरुबिन (पीलिया ), एसजीओटी, एसजीपीटी आदि इस टेस्ट के तहत आते हैं।

यूरिन टेस्ट

  • फुल बॉडी चेकअप पेशाब की जांच के जरिए ग्लूकोज और प्रोटीन की मात्रा का पता लगाया जाता है।

कहीं कमजोर तो नहीं आपका इम्यून सिस्टम?

0
Immunity

इम्यूनिटी हमारे शरीर की टॉक्सिन्स से लड़ने की क्षमता होती है। ये टॉक्सिन्स बक्टीरिया, वायरस, फंगस, पैरासाइट या कोई दूसरे नुकसानदायक पदार्थ हो सकते हैं। अगर हमारी इम्यूनिटी मजबूत है तो यह हमे न सिर्फ सर्दी और खांसी से बचाती है बल्कि हेपैटाइटिस, लंग इनफेक्शन, किडनी इनफेक्शन सहित और कई बीमारियों से हमारा बचाव होता है।

हमारे आसपास कई तरह के पैथोजंस होते हैं। हमें पता भी नहीं होता और हम खाने के साथ, पीने के साथ यहां तक की सांस लेने के साथ भी हानिकारक तत्वों को अवशोषित कर लेते हैं। ऐसा होने के बाद भी हर कोई बीमार नहीं पड़ता। जिनका इम्यून सिस्टम मजबूत होता है वे इन बाहरी संक्रमणों से बेहतर तरीके से मुकाबला करते हैं। हमारी प्रतिरोधक क्षमता कैसी है इस बारे में हम ब्लड रिपोर्ट से पता कर सकते हैं लेकिन हमारा शरीर भी हमें कई तरह के सिग्नल्स देने लगता है। ऐसे चेक करें…

बार-बार संक्रमण होना या ऐलर्जी
अगर आपको लगता है कि आप दूसरों की अपेक्षा बार-बार बीमार होते हैं, जुकाम की शिकायत रहती है, खांसी, गला खराब होना या स्किन रैशेज जैसी समस्या रहती है तो बहुत पॉसिबल है कि यह आपके इम्यून सिस्टम की वजह से हो। कैंडिडा टेस्ट का पॉजिटिव होना, बार-बार यूटीआई, डायरिया, मसूड़ों में सूजन, मुंह में छाले वगैरह भी खराब इम्यूनिटी के लक्षण हैं।

कुछ लोग जरा सा मौसम बदलते ही बीमार हो जाते हैं। यह शरीर का तापमान कम होने से हो सकता है। मजबूत इम्यून सिस्टम के लिए नॉर्मल ऑरल बॉडी टेंपरेचर 36.3 डिग्री से. से नीचे नहीं होना चाहिए। क्योंकि सर्दी के वायरस 33 डिग्री पर सर्वाइव करते हैं। रोजाना एक्सर्साइज करने से आप अपनी बॉडी का तापमान और इम्यूनिटी बढ़ा सकते हैं। साथ ही गर्माहट पैदा करने वाले मसाले जैसे लहसुन अदरक, दालचीनी लौंग वगैरह भी बेहद काम के हैं।

बुखार न आए तो
जब शरीर को बुखार आना चाहिए तो भी न आए इसका मतलब है कि आपकी प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है। बुखार से शरीर बीमारियों से लड़ता है और हम में से ज्यादातर लोग बुखार की दवा खा लेते हैं जिससे बुखार हमारे लिए पॉजिटिव तरीके से काम नहीं कर पाता। अगर आपको संक्रमण के बाद भी कई साल से बुखार न आया हो तो यह भी कमजोर इम्यूनिटी का लक्षण है।

विटमिन डी की कमी
विटमिन डी इम्यूनिटी को बढ़ाता है और ज्यादातर लोगों में इसकी कमी होती है। अगर आपकी ब्लड रिपोर्ट में विटमिन डी की कमी है तो आपको इसका लेवेल सही करने की हर कोशिश करनी चाहिए। इसके अलावा लगातार थकान, आलस या ऐसे घाव जो लंबे वक्त तक न भरें, नींद न आना, डिप्रेशन और डार्क सर्कल भी कमजोर प्रतिरोधक क्षमता की निशानी है।

Health Packages – At A Glance

0
Package details

Dear All,

You can view all the available packages details here.

हेल्थ फर्स्ट~पैकेज -हमारा प्रोडक्ट

0

हेल्थ फर्स्ट~पैकेज – हमारा प्रोडक्ट👌👍

1– हर उम्र के पुरुष / महिला  के लिए उपयोगी।

2– गरीब से अमीर तक सबकी जरूरत।

3– प्रतिवर्ष स्वेच्छा से दोबारा लेने के इच्छुक।

4– स्पष्ट और तत्काल (रिजल्ट से) फायदे की अनुभूति।

5– रिजल्ट को लेकर कोई संशय या टीका टिप्पणी नहीं।

6– हेल्थ सप्लीमेंट्स वर्कर्स, इनश्योरेन्स वर्कर, तथा हेल्थ प्रैक्टीशनर्स के लिए अग्रिम टूल्स की भांति।

7– पूरी तरह कानूनन वैध, तथा प्रमाणिक।

8– कन्फ्यूज(डाउट फुल) जीवन को कॉन्फिडेंट जीवन में बदलने की अनुभूति।

👁️‍🗨️दोस्तों~ इस हेल्थ चेकअप टेस्ट रिपोर्ट (प्रोडक्ट) की अनगिनत खूबियाँ और फायदे हैं अतः इसको प्रमोट करने से आपकी इमेज दिन प्रतिदिन और पॉजिटिव तथा आपके लोगों के बीच डिमाण्डिंग बनती ही चली जाती है।🎯😇

🔜⚡आइये एक बार जोरदार प्रयास  करके इस अभियान को आगे बढ़ाते हैं तथा अपने साथ साथ लोगों (समाज) का भला करने में भरपूर योगदान देते हैं।🌟👑💫✨

🌷आपका साथी सहयोगी🌷

💐केशव द्विवेदी कानपुर🙏

9935968872 

नेटवर्किंग की पावर (POWER OF NETWORKING)

0
power of networking

आईये साधारण भाषा में समझते है कि नेटवर्किंग आखिर है क्या और इसके असीमित लाभ क्या है !!!

1:– लोगों को एक मकसद  के लिए एक समूह में साथ लाकर उनको एक सूत्र में बाँधे रखना।

2:– आपको आपसे भी ज्यादा समर्पित और इस कार्य हेतु फोकस सहयोगी (सीनियर व जूनियर्स) निशुल्क प्राप्त होना।
3:– सभी टीम में शामिल व्यक्तियों को एक सामान स्पान्सरिंग के अधिकार और लाभ प्राप्त होना।
4:– आपके पास इस विषय का जितना भी ज्ञान और अनुभव है वह और आपके सीनियर्स के माध्यम से उनका भी सहयोग दोनों आपने साथ शामिल व्यक्तियों को देकर उनको अपने समान सफल बनाने की क्षमता होना।

5:– अपनी टीम में शामिल सदस्यों की संख्या में वृद्धि करके अपनी आमदनी की वृद्धि तय होने की क्षमता मिलना।

6:–पिछली किसी भी कमजोरी (योग्यता, धन का आभाव, समय की कमी, जगह की जरूरत, या स्वयं का प्रभावशाली व्यक्तित्व न होना आदि) का प्रभाव आपके नए इस काम पर न पड़ने पाने की क्षमता होना।

दोस्तों ऐसी अनगिनत खूबियाँ है इस नेट्वर्किंग के प्रोफेसन में बसर्ते आपको इस पर अटूट विश्वास और सकारात्मकता बनाये रखते हुए प्रोफेसनल नेटवर्कर के रूप में अपने को ढालें याद रखें परिणाम किसी काम के ठीक प्रकार से पूरा होने से पहले नहीं आते वह हमेशा उस काम के होने के बाद ही प्राप्त होते है।

   परन्तु काम हमेशा ज्ञान अनुभव और समर्पण के बाद ही हो पाता है। अतः धैर्य के साथ ही काम को करते रहें और सही तरीका जानने और सीनियरों के अनुभव का प्रयोग कर काम करने पर ही पूरा जोर लगावें।

आपका सहयोगी साथी

केशव द्विवेदी कानपुर

9935968872

बिज़नेस प्लान – पूर्ण समीक्षा (Business plan – full explanation)

0

तो आइये इस “HEALTH FIRST” कॉन्सेप्ट्स से क्या और कैसे हासिल होगा यह जानते हैं:~

दोस्तों~ इस कॉन्सेप्ट में कम्पनी द्वारा निर्धारित अलग-अलग पैकेज को स्वयं या अपने किसी भी कस्टमर को दिलाकर हम इस कॉन्सेप्ट्स का हिस्सा बनने के लिए जरूरी एक पिन ( जो एक पैकेज की बिक्री पर ही मिलेगी) प्राप्त करते हैं इस पिन से हम ID लगाकर उसे टॉपअप करके ग्रीन करेंगे जिससे हम डिस्ट्रिब्युटर बन जाएंगे और सभी प्रकार के प्लान के बेनीफिट पाने के अधिकारी होंगे।

1:-रेफरल कमीशन आय ~ जब हम किसी नए व्यक्ति की ID को (किसी 6000₹ वाले से) लगाएंगे तो उससे हमें रेफरल कमीशन के रूप में 800₹ प्राप्त होंगे जिन्हें हम जितने ज्यादा चाहें लगा सकते हैं हर रेफरल पर हमें यह 800₹ की आय प्राप्त होती रहेगी।

2:- लीडरशिप बोनस आय~ यह दो भागों में होती है जिसमे पहली यह आय हमें न्यूनतम तीन लोगों को रेफर करके शामिल करने से प्राप्त होती है इसमें हमें अपने द्वारा डायरेक्ट (L1 पर) शामिल किये गए प्रत्येक व्यक्ति की कुल आय का 30% के बराबर का हिस्सा कम्पनी की और से हमें मिलता है

जैसे हमने यदि स्वयं से 20 लोगों को (L1 पर) इस योजना में अपने साथ डायरेक्ट शामिल किया और उन सभी ने आज तक मात्र 10000₹ का कुल पे आउट पाया तो उन पर हमें भी 30% यानी 3000 ₹ प्रति व्यक्ति से कुल 3000 × 20 = 60000₹ प्राप्त होगा।

इसी प्रकार से दूसरी लीडरशिप आय हमको स्वयं से न्यूनतम 5 व्यक्तियों को शामिल करने पर अपने द्वारा डायरेक्ट (L1 पर) लाये गए व्यक्तियों की मदत करने से उनके द्वारा (L2 पर) शामिल किये गए लोगों की कुल आय का 30% के बराबर की लीडरशिप हमारे L1 पर शामिल इनके स्पान्सर्स को था इन्हीं L2 पर शामिल लोगों की कुल आय का 10% के बराबर का हमें भी कम्पनी से प्राप्त होगा।

जैसे हमने स्वयं से डायरेक्ट 20 लोगों को शामिल किया और उनको भी मदत की जिससे उन सभी ने मिलकर 50 नए लोगों को अपने साथ शामिल किया। इन सभी 50 लोगो ने स्वयं मात्र 10000₹ का पे आउट पाया जो 50× 10,000 = 5,00,000₹ हुआ अतः इन लोगों की कुल आय पर हमें भी 10% का लीडरशिप बोनस प्राप्त होगा जो की 5,00,000 × 10% =50,000₹ होगा।

अतः इस उदाहरण में कुल हमारी लीडरशिप आय L1 के 20 लोगों पर 30% का 60,000₹ और L2 पर शामिल 50 लोगों से 10% का 50,000₹ भी प्राप्त होगा अतः कुल 60,000 +50,000 = 1,10,000₹ का लीडरशिप बोनस का भी लाभ हमें प्राप्त हुआ।

3:~ टीम लेवल इंसेंटिव कमीशन :–

दोस्तों इस कॉन्सेप्ट्स में हम सिर्फ दो टीमें ही बना सकते हैं जिन पर हमें नीचे उतरते हुए प्रत्येक लेवल के लिए निर्धारित कमीशन प्राप्त होता रहेगा हमें अपने द्वारा लाये गए प्रत्येक व्यक्ति को इन्ही दोनों टीमों में नीचे ही प्लेस करना होगा इसी प्रकार हमारे ऊपर के सीनियर्स और हमारे नीचे के जूनियर्स भी अपने सभी लोगो को सिर्फ अपने नीचे की इन्ही दोनों टीमो में ही प्लेस कर सकेंगे जिन पर निम्न निर्धारित चार्ट के अनुसार तय कमीशन और रायल्टी आय प्राप्त होगी:~

लेवल 1 से ~ शून्य (NIL)            2 ID से

लेवल 2 से ~ 100₹ प्रति              4 ID से

लेवल 3 से ~ 100₹ प्रति              8 ID से

लेवल 4 से ~ 50₹ प्रति             16 ID से

लेवल 5 से ~ 50₹ प्रति             32 ID से

लेवल 6 से ~ 30₹ प्रति             64 ID से

लेवल 7 से ~  30₹  प्रति          128 ID से

लेवल 8 से ~ 30₹ प्रति          256 ID से

लेवल 9 से ~ 30₹ प्रति          512 ID से

लेवल 10 से~ 20₹ प्रति        1024 ID से

लेवल 11 से~ 20₹  प्रति        2048 ID से

लेवल 12 से~ 20₹ प्रति        4097 ID से

लेवल 13 से~ 20₹ प्रति        8192 ID से

लेवल 14 से~ 30₹ प्रति      16384 ID से

लेवल 15 से~ 30₹ प्रति      32768 ID से

लेवल 16 से~ 30₹  प्रति     65536 ID से

लेवल 17 से~ 30₹ प्रति    131072 ID से

लेवल 18 से~ 50₹ प्रति    262144 ID से

लेवल 19 से~ 50₹ प्रति    524288 ID से

लेवल 20 से~ 100₹ प्रति  1048576 ID से

लेवल 21 से~ 100₹ प्रति  2097152 ID से

की आय प्राप्त होगी।

4:~ अनलिमटेड लीडरशिप क्लब इनकम :-

इसके अन्तर्गत तीन क्लबों(सिल्वर, गोल्ड तथा डायमण्ड क्लब) का निर्माण किया गया है जिनमे कम्पनी अपने प्रतिमाह के कुल हुए टर्नओवर का प्रत्येक क्लब हेतु तय(4%, 3% तथा 2.5% का) हिस्सा डालती है जो उस क्लब के सभी एचीवर्स के बीच उस माह बराबर- बराबर बाँटा जाता है।

1:~ सिल्वर क्लब:— इस क्लब का सदस्य बनने के लिए आपको स्वयं से शामिल किये गए किन्ही 5 व्यक्तियों को लीडर (जिन्होंने दोनों लेवल की 30% व 10% की लीडरशिप एचीव की हो) बनाना होगा तथा इस क्लब का सदस्य बनाने के पश्चात प्रतिमाह अपनी टीम से मात्र 1 लाख ₹ का टर्नओवर टीम से देना होगा।

इस क्लब में आपको कम्पनी द्वारा प्रतिमाह के टर्नओवर का 4% हिस्सा डाल कर इस क्लब में उस माह तक शामिल सभी एचीवर्स में बराबर बाँटा जाता है।

2:~ गोल्ड क्लब:-– इसके एचीवर बनाने के लिए आपके स्वयं द्वारा शामिल किन्हीं तीन अलग अलग लोगों की टीमों से मात्र एक-एक “सिल्वर क्लब” का एचीवर बनाना होगा और प्रतिमाह आपको अपनी टीम से मात्र 3 लाख ₹ का टर्नओवर देना निश्चित करना होगा तो इस प्रकार आपको अपने “सिल्वर क्लब” के हिस्सेदारी के साथ इस क्लब का भी हिस्सा प्राप्त होगा।

इस “गोल्ड क्लब” में कम्पनी अलग से और उस माह के टर्नओवर का 3% हिस्सा डालती है जो इस क्लब में उस माह तक शामिल सभी एचीवर्स में बराबर बराबर बाँटा जाता है।

3:~ डायमंड क्लब:— इस क्लब का सदस्य बनने के लिए आपको स्वयं द्वारा शामिल किन्ही तीन लोगों के अलग- अलग ग्रुप्स से एक-एक “गोल्ड क्लब” एचीवर बनाना होगा तथा अपनी टीम से प्रतिमाह मात्र 9 लाख ₹ का टर्नओवर  निकालना होगा। इससे आपको अपने “सिल्वर और गोल्ड क्लब” के हिस्से के साथ इस “डायमंड क्लब” का भी हिस्सा भी प्राप्त होता है

इस क्लब में कम्पनी अपने उस माह के टर्न ओवर का 2.5% हिस्सा डालकर इस क्लब में उस माह तक शामिल सभी सदस्यों के बीच बराबर बराबर बाँटती है।

उदाहरण:~ माना किसी माह कम्पनी में सिर्फ 1,500 पैकेज ( Average Amount 4000/-) सेल हुए तो उस माह का टर्नओवर 1,500×4,000 =60,00,000₹ होगा जिसका 4% = 2,40,000 ₹ सिल्वर क्लब में बटेगा

माना “सिल्वर क्लब” में 10 एचीवर्स है तो प्रत्येक को 2,40,000 ₹ / 10 =24,000 ₹ प्राप्त होंगे।

इसी प्रकार “गोल्ड क्लब” में भी 3% बटेगा जो 60,00,000 का 3% यानी 1,80,000₹ होगा यदि “गोल्ड क्लब” के 5 एचीवर्स है तो इस क्लब में 1,80,000/5 =36,000₹ तो गोल्ड क्लब के और इन्ही लोगों को इनके सिल्वर क्लब के भी 24,000₹ भी प्राप्त होंगे अतः इनकी कुल क्लब इनकम 60,000₹ की होगी।

इसी प्रकार यदि डायमण्ड क्लब में सिर्फ 2 एचीवर्स है तो इस क्लब में कुल टर्नओवर 60,00,000 का 2.5% =1,50,000₹ इन दो एचीवर्स में बराबर बराबर यानी 75,000 -75,000₹ मिलेगा।

परन्तु इस क्लब के प्रत्येक सदस्य को पिछले दोनों क्लबों का  60,000₹ भी प्राप्त होगा अतः इस क्लब के प्रत्येक सदस्य की कुल क्लब आय 60,000 + 75,000 =1,35,000₹ की उस माह में होगी।

(नियम व शर्तें):~

1:- अपनी ID को ग्रीन करने के लिए उसको 1पिन से टॉपअप करना अनिवार्य है जो आपको कम्पनी द्वारा निर्धारित किसी भी पैकेज को सेल करने से मिलेगी।

2:- ID लगते ही उस पर बनने वाले आपके सभी कमीशन तत्काल ही ई-वॉलेट में ट्रांसफर होने लगेंगे जो तुरन्त ही देखे जा सकेंगे।

3:- अपने ई-वालेट में पड़े कमीशन को आप कभी भी नई पैकेज सेल पर एडजेस्ट करा सकते है।

4:- एक ही नाम की कई ID होने पर आप आपस में एक ई-वालेट से दुसरे इ-वालेट में ट्रांसफर भी कर सकते हैं।

5:- अपने बैंक एकाउंट में न्यूनतम 800₹ का ही पे आउट ट्रान्सफर कराया जा सकेगा जो कभी भी रिक्वेस्ट डाल कर लिया जा सकता है परन्तु इस ट्रांसफर एमाउंट पर TDS काटा जायेगा।

6:- हर एक व्यक्ति को अपना पहला रेफरल हमेशा एक्सट्रीम लेफ्ट साइड ही डालना होगा इसके बाद ही बाकी शेष रेफरल्स को अपनी मर्जी से कही भी प्लेस  करने की आजादी मिल सकेगी।

7:- मुख्य पैकेज के अतिरिक्त यदि कोई वर्कर सिस्टम में उपलब्ध कोई भी प्रोडक्ट या सर्विस बेचता है तो उस पर निर्धारित लाभ/ मार्जिन पाने का सिर्फ वही अधिकारी होगा उन पर(अभी) कोई भी टीम कमीशन नहीं बँटेगा।

8:- एचीवर्स क्लब में इंट्री पाने के लिए हर क्लब के लिए पूर्व निर्धारित क्राइटेरिया को हरहाल में पूरा करना ही होगा तत्पश्चात ही उस क्लब में इंट्री संभव होगी।

9:- प्रत्येक क्लब के सदस्यों हेतु कम्पनी और उस क्लब के सदस्यों द्वारा मिलकर समय समय पर सभी शामिल सदस्यों के एक्टिव बनें रहनें और उस क्लब में एचीवर्स की संख्या तथा एचीवर्स की क्वालिटी पैरामीटर्स को मेंटेन बनाये रखने हेतु जरूरी समीक्षा और नियम व शर्तें आदि बनाई जाएँगी।

Taking Care of Your Mental Health in the Fitness Space

0

I can’t recall a moment during my time working in the fitness industry where I didn’t hate myself.

It seems ironic when you think about it. Fitness is supposed to be about health and living your best life possible. Why then, do we find ourselves stressed and anxious rather than inspired?

When you’re living in a world that thrives on the concept of insufficiency it can be difficult to keep a healthy perspective on diet and exercise. It’s not hard to see how disordered eating and mental health struggles can be associated with the fitness industry because of this.

Most of the articles in the top-selling fitness magazines play up insecurities, encouraging us to jump on every latest trend to change all the things we dislike about ourselves. It’s all about how much we can take away from our body, and how tracking everything we eat and do is necessary for any kind of noticeable progress. Physical activity becomes another gateway to feed disordered eating habits.

We use words like “dirty,” “bad,” and “cheating” to describe certain foods or the consumption of them, thinking it’s an innocent way of reminding ourselves to eat better. In reality, this kind of language is quite harmful to our mental state.

Giving any kind of negative association to the food we eat implies there is something wrong with indulging in it. It’s like a form of self-manipulation, because we are making ourselves feel bad for things we have no reason to feel bad about. If you’ve ever experienced genuine guilt for ordering off the dessert menu, you know what I’m talking about.

We celebrate antisocial habits and withdrawal from friends and family due to restrictive eating in the name of “health,” leading to even higher irritability levels from a lack of involvement in the activities we would normally enjoy participating in.

The cycle seemingly never ends.

Suffering in Silence

Eating disorders are just one aspect of the mental health strains endured in a world dominated by images and numbers. For those of us who suffer from depression, anxiety, obsessive-compulsive disorder (OCD), or any other kind of mental illness, the drive to adhere to these numbers and constraints we have created for ourselves is exhausting.

Unfortunately, mental illness tends to fly under the radar and to get pushed to the backburner when we are working hard to achieve our goals.

Think of it like a credit card statement that we’re embarrassed to talk about. While we don’t want to acknowledge its existence, we know it’s there. It builds and becomes more daunting, until it grows totally out of control. Yet we’re afraid to address it.

Those who suffer from anxiety or depression are more likely to develop an eating disorder as a result of their altered mental state. So if you already suffer from mental illness, you are at a risk of making things worse when you start to involve more calculated measures of control over what you eat and how you exercise [9,11].

That being said, there is still a great amount of stigma that surrounds mental illness, which can make it difficult for some people to be open about what they are going through in order to seek help. Suffering in silence usually means that we find a different way of coping. When that comes in the form of extreme diet swings and over-exercising, it can be very damaging to our long-term physical and psychological health.

So what can we do to protect our mental health?

Luckily there are measures we can take to ensure we maintain a positive and healthy mindset in the face of the unattainable “perfection” society pushes on us. If any of the scenarios below sound like things you’ve experienced, here are some steps you can take to improve your self-image and mental health. Avoiding these pitfalls can help ensure that we live our healthiest life possible, free from guilt, disordered eating, and poor body image.

Pitfall 1: Obsessively Counting Calories and Macros

Studies have shown that there is a direct correlation between disordered eating and the overuse of calorie and macro tracking apps [1,7]. Try as we may to separate the two, when tracking your calories becomes an obsession it is difficult to see food in a positive light. Food isn’t just food anymore – it’s now observed as digits and nutritive breakdowns.

Sometimes, too much knowledge in one area isn’t necessarily a positive thing when you’re using that knowledge for something destructive.

Solution: Eat Intuitively

If you cannot remember the last time you picked up an apple and ate it without automatically calculating the approximate number of carbs and sugars inside of it, it may be time to put down that tracking app [8].

We were born knowing how to eat, and we gradually lost that ability over time through outside influence. So let’s take it back to the basics — next time you have a meal, think of some basic guidelines for how to make it nutritious, pick an item from each food group (protein, fat, carbohydrates), and be sure to include fruits and vegetables. Eat slowly, eat mindfully, and choose foods you actually enjoy eating.

The emotional and social aspect of eating is an integral part of our livelihood. Food should satisfy you, energize you, and bring you happiness. Try not to overthink it.

Pitfall 2: Exercising to Burn Calories Rather Than to Promote a Healthy Lifestyle

While exercise can help relieve some depressive symptoms and decrease anxiety, more is not always better; exercising can have detrimental effects on your physical and mental state when done to excess [2,4,10].

I can’t tell you the amount of times I used to go for a run just because I had a bite of cake when I didn’t “earn” it, or when it wasn’t a part of my meal plan. If I didn’t find a way to burn away my transgressions, my anxiety would soar and I would panic. Exercise became nothing more than a way for me to assume control when other parts of my life felt like they were in a downward spiral.

Solution: Exercise to Get Stronger, Move Better, and Feel Better

Set your focus on building strength and stamina. Think of exercising to improve your overall health rather than simply using it as a tool to create a bigger dietary deficit. Exercise for longevity — it should never be a form of punishment or something you feel obligated to partake in out of shame.

Find something you love to do, whether that is weightlifting, snowboarding, tennis, hiking, running, swimming, team sports, martial arts, or anything else you can think of! Exercise should be enjoyable, and an integral part of your self-care.

Pitfall 3: Following Too Many Fitness or Fashion Model Accounts on Social Media

Now, don’t get me wrong: just like anyone, I certainly love to admire a beautiful model from time to time. However, now that we have higher access to these images at a moment’s notice, it can cause us to create extremely unrealistic standards for ourselves.

We tend to compare ourselves more to those we see in photos than those we observe through other media, such as television, due to the fact that photos can be retouched and filtered to perfection [3,5,6].  This unhealthy comparison can lead to unhappiness in our lives as well as the lives of those around us, because it affects our interactions with them and ultimately our quality of life. We don’t realize how many of those images are doctored up, and that the person behind them is just another human with their own doubts and insecurities.

Solution: Be Mindful of the Images You Surround Yourself With

Next time you are about to hit the “follow” button on Instagram, ask yourself a few questions:

  1. Does this person offer something of value to my life?
  2. Does this person make me feel good about myself?
  3. Does this person have a good message?
  4. Does this person promote a healthy image and lifestyle?
  5. Does this person promote unrealistic standards?

If you are following people simply for the sake of scrolling through their feed and admiring their seemingly perfect body, face, and life, just do yourself a favor: don’t.

If the person you are following makes you feel insecure, jealous, or bad about yourself, do not continue following them. There is nothing wrong with looking up to someone who inspires you, but make sure they inspire you for the right reasons.

Pitfall 4: Using Negative Self-Talk

Every time we say something negative about ourselves, it becomes more of a reality in our minds.

Words are powerful, and while we could be using them to lift ourselves up, sadly so many of us use them to put ourselves down.

It’s not always so obvious, but you’d be surprised how much of an effect it can have on your self-esteem and physical progress long term to continue talking down on yourself, even if you’re doing so in a humorous, self-deprecating way.

Solution: Refer to Yourself Lovingly

It’s time to drop the self-deprecation — your life isn’t a “Roast Yourself Challenge.”

Next time you refer to yourself, take a moment to consider the words you intend to use. If what you are about to say is negative, find a different word to use to describe yourself — even if it sounds silly when you say it, and even if it’s exactly opposite of how you feel. I call it, “The Antonym Game” — for every bad word I would use to describe myself, I replace it with a more positive, contrasting expression.

It’s not necessarily about positive affirmations. Sometimes it’s just about challenging yourself to transform your negative talk into something positive or neutral. The better you get at doing this, the more it inherently sticks in your mind.

Pitfall 5: Believing Your Mental Health Is Secondary to Your Physical Health

When we think of taking care of ourselves, we usually refer to caring for our physical bodies and appearance, putting our mental health to the side. However, the two are not mutually exclusive.

Mental health is just as important as physical health, and it is difficult to have one without the other. Eventually, something has got to give. We invest so much in caring for what our body looks like on the outside, while on the inside we wither away.

Solution: Take Care of Your Mental Health

Mental health is the backbone of our entire well-being. Without this kind of self-care, everything else falls to the wayside.

Take time to relax every day, and practice mindfulness. When you are feeling overwhelmed, step back and breathe. Take time to acknowledge when you are not feeling well, and do whatever is necessary to centre yourself and help yourself feel better.

If needed, seek professional help for your mental health. There is never shame in having someone to talk to who can help us make healthier choices and find new balance in our life. These problems can be tough to tackle on our own.

When we take care of our mental health, we take care of our body the best way that we know how. One cannot thrive without the other.

Above all else, remember that numbers do not define you. The moment we relinquish the need for absolute control is the moment we allow ourselves to open up and heal. The path to recovering from mental illness begins with your mindset. Some of us may battle with it for a lifetime, but all of us can take steps every day towards leading the best and healthiest life we possibly can.

Recognize when there is a problem, and do whatever is necessary to achieve balance. Only then can we begin to end the cycle of harmful thought.

Hiring the Nutrition-Fitness Hybrid Pro

0

What are consumers looking for when they come to your gym or studio? Sure, they want great workouts and access to the latest equipment in a welcoming, fun environment. But above all, they really want to attain their health and fitness goals.

At our gym—One on One Fitness in State College, Pennsylvania—we’ve learned that lasting, consistent client success depends on intelligent nutrition and habit-change strategies. Thus, we’ve pivoted from workouts to wellness to help clients succeed—and to differentiate our business. We focus on three areas: fitness, nutrition and lifestyle habits.

We’re making this happen with a new job title: the nutrition–fitness hybrid pro. We recruit registered dietitians who love fitness, and then we train them to be fitness professionals.

It’s an incredibly exciting opportunity for the right people. These RDs interact with clients in ways that they wouldn’t normally, as clinical dietitians. Moreover, they help clients in ways that a dietitian or personal trainer, individually, could not.

“I became an RD because I have a passion for helping others,” says Haley Golich, RDN, LDN, a recent addition to our team at One on One. “The nutrition–fitness hybrid position enables me to promote healthy living, help clients set and achieve health goals, and contribute to the prevention of chronic disease. It is the ongoing interaction with clients that intrigued me the most.”

Advantages to This Professional Model

We employ four RDs and are recruiting more. Here’s what we’ve observed since implementing this strategy:

Our Pool of Hiring Candidates Is Wider

Hiring/recruiting quality fitness professionals can be a significant challenge because it’s so hard to find that “gem” of a personal trainer who is competent, professional and (of course) looking for work. The nutrition–fitness hybrid position lets us recruit outside the pool of personal trainers and kinesiology students.

“When I went off to college, I couldn’t decide whether I wanted to study kinesiology or nutrition,” says Bethany Paszkowski, RDN, LDN, another member of our team. “They both interested me, and both would allow me to achieve my longer-term goal of helping people. This position is perfect for me.”

RDs Have Advanced Skills

When hiring an RD, you’re getting someone who is dynamic, smart and organized. Five years of vigorous education forces a person to develop many of the professional skills required to succeed in this role. Although RDs don’t have a degree in kinesiology, they quickly develop an intellectual understanding of the science and prove that they can consistently apply it in a fitness setting. Bottom line: You’re not hiring a “project.”

RDs Enjoy Career Satisfaction

This position has a strong allure for the right kind of RD. After all, RDs rarely encounter so much diversity in their tasks and such a committed client base in clinical or community nutrition jobs. “I’ve worked as a registered dietitian in both the public health and clinical settings. These settings can be challenging to impact change,” says Golich. “By combining nutrition counseling along with fitness consulting, I am able to impact clients in a comprehensive way to elicit the most positive change.”

It’s Easier to Turn RDs Into Trainers Than Vice Versa

Teaching RDs about fitness is a time-consuming but straightforward process. Conversely, dietetics is a complicated, multifaceted subject that will soon require a master’s-level education. Thus, the model works only if you start by hiring RDs. Turning trainers into RDs is rarely achievable.

The Investment Will Pay Off

RDs are used to making a healthy salary, so you will have to pay them competitively. You will have difficulty competing against the pay of a clinical setting. However, we don’t try. Instead, we attract people strongly motivated to engage in our holistic wellness opportunity. We provide a 5-week training program whose value is clear to the people we hire. They recognize that our team will teach them a trade and that we’ve made an investment in them—knowing we won’t see a return until well after they start.

How the Nutrition–Fitness Model Improves Your Business

In a competitive marketplace, fitness businesses have to differentiate themselves and generate new sources of revenue. In our market, a lot of gyms and clubs are doing the same things: offering different spins/pricing on group training and selling supplements. Although many businesses succeed tremendously on this path, we think the competition will only get stiffer.

We believe that creating a one-stop shop focusing on fitness, nutrition and habit change is a win-win that helps our business while giving our clients the best opportunity to succeed. We hired our first full-time RD in 2015, and our nutrition program became profitable after about a year, mainly through individual counseling sessions.

Some of the most significant benefits are intangible. Having RDs on staff clearly differentiates us from our competitors and solidifies our position as leaders in our field. RDs also get nutrition clients interested in fitness, educate our community and contribute to our social media updates.